बिहार: नीति आयोग की रिपोर्ट पर गरमाई सियासत, RJD ने नीतीश सरकार पर कसा तंज

बीते साल के मुकाबले 14 राज्यों की समग्रता में रैंकिंग घटी है. बिहार के 2018 में 48 अंकों में सुधार करते हुए इस साल 50 अंक पाया है, पर वह राज्यों की सूची में 28वें नंबर पर है.

बिहार: नीति आयोग की रिपोर्ट पर गरमाई सियासत, RJD ने नीतीश सरकार पर कसा तंज
आरजेडी ने नीति आयोग की रिपोर्ट को लेकर सीएम नीतीश पर निशाना साधा है. (फाइल फोटो)

पटना: बिहार में विकास के दावे को नीति आयोग ने हवा निकाल दी है. नीति आयोग ने सोमवार को सूचकांक जारी कर नीतीश कुमार सरकार की पोल खोल दी. बिहार देश में सबसे फिसड्डी राज्य के रुप में सामने आया है.

नीति आयोग द्वारा जारी रिपोर्ट के आधार पर केरल शीर्ष पर है तो, बिहार फिसड्डी रहा है. गुजरात और महाराष्ट्र की स्थिति में सुधार नहीं दिखा है. इस सूचकांक में केरल को 70 अंक मिले, 69 अंकों के साथ हिमाचल प्रदेश दूसरे, आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु और तेलंगाना तीनों 67 अंक के साथ तीसरे स्थान पर है.

रिपोर्ट में कहा गया है, 'उत्तर प्रदेश, ओडिशा और सिक्किम ने 2018 के मुकाबले काफी अच्छी प्रगति की है. गुजरात और महाराष्ट्र जैसे राज्यों में 64 अंकों के 2018 के मुकाबले कोई सुधार नहीं हुआ हैं. केंद्रशासित प्रदेशों में चंडीगढ़ भी 70 अंक के साथ शीर्ष पर है.' 

वहीं, बिहार का प्रदर्शन सबसे खराब रहा. बिहार का स्कोर बढ़ा पर, रैंकिंग में सबसे पीछे है. रिपोर्ट के मुताबिक, बीते साल के मुकाबले 14 राज्यों की समग्रता में रैंकिंग घटी है. बिहार के 2018 में 48 अंकों में सुधार करते हुए इस साल 50 अंक पाया है, पर वह राज्यों की सूची में 28वें नंबर पर है.

नीति आयोग की इस रिपोर्ट पर सरकार की सता संभाल रहीं भारतीय जनता पार्टी और जनता दल यूनाइटेड ने सफाई दी है. जबकि राष्ट्रीय जनता दल ने नीति आयोग की रिपोर्ट को सही और दुर्भाग्यपूर्ण करार दिया है.

बीजेपी विधायक संजीव चौरसिया ने कहा कि बिहार की विकास दर बढ़ी है. उन्होंने कहा कि यदि आप पूरी रिपोर्ट को सूक्ष्म तरीके से अध्ययन करेंगे तो दिखेगा की बिहार की स्थिति में सुधार हुआ है. हालांकि, उन्होने दलील दी है कि हर राज्य विकास कर रहा है. बिहार भी बढ़ रहा है.

वहीं, जेडीयू ने भी सफाई पेश की है. जेडीयू नेता और उद्योग मंत्री श्याम रजक ने इस हालात के लिए विशेष राज्य का दर्जा नहीं मिलने की बात कही है. श्याम रजक ने कहा कि विशेष राज्य का दर्जा मिला होता तो बिहार तेजी से विकास करता. विकास का उछाल और होता. 

उन्होने कहा कि बिहार को विशेष राज्य का दर्जा नहीं मिला, इसलिए यह स्थिति है. उद्योग मंत्री श्याम रजक ने कहा कि बिहार इंफ्रास्ट्रक्चर, मानव विकास में आगे बढ़ा है औऱ आज बहुत अच्छी स्थिति में है.

जेडीयू नेता ने कहा कि अन्य राज्यों की तुलना में बिहार में काफी बढ़िया काम यहां हो रहा है. लेकिन अन्य राज्य की भौगोलिक, समाजिक स्थिति अलग है.

वहीं, राष्ट्रीय जनता दल ने नीतीश सरकार पर हमला बोला है. आरजेडी नेता रामानुज ने कहा है कि बिहार में विकास की बात झूठी है. उन्होंने कहा कि बिहार में रंग रोगन कर विकास दिखाया जा रहा है, जो है नहीं. 

रामानुज ने कहा कि बिहार में कुपोषण से बच्चे मर रहें हैं. लेकिन सरकार कह रही है कि विकास कर रहें हैं. कड़ाके की ठंड में लोग मर रहें है. शिक्षा चौपट है, पढ़ाई छोड़ सारे काम हो रहा. हास्पिटल में कंबल नहीं मिल रहा है. नीति आयोग की रिपोर्ट सही है. आरजेडी नेता ने कहा कि नीति आयोग ने और अच्छे तरीके से जांच की होती तो, बिहार देश में 28वें पायदान से और नीचे जाता.