बिहार में चल रहा दिलचस्प 'POSTER WAR', लालू-नीतीश विरोधी पार्टियों की HIT LIST में शामिल

राजधानी पटना में एक बार फिर सियासी पोस्टर लगाए गए हैं. इस बार पोस्टर जेडीयू की तरफ से लगाए गए हैं. जेडीयू ने पोस्टर के जरिए लालू यादव के घोटाले वाली गाथा को दर्शाया है.

बिहार में चल रहा दिलचस्प 'POSTER WAR', लालू-नीतीश विरोधी पार्टियों की HIT LIST में शामिल
जेडीयू ने पोस्टर के जरिए लालू यादव के घोटाले वाली गाथा को दर्शाया है.

पटना: बिहार में चुनावी साल शुरू होते ही सभी पार्टियों ने अभी से ही तैयारी शुरू कर दी है. राजधानी पटना में एक बार फिर सियासी पोस्टर लगाए गए हैं. इस बार पोस्टर जेडीयू की तरफ से लगाए गए हैं.

जेडीयू ने पोस्टर के जरिए लालू यादव के घोटाले वाली गाथा को दर्शाया है. पोस्टर में एक ट्रेन दिख रही है जिसे करप्शन मेल नाम दिया गया है. वहीं, खिड़कियों में नरसंहार, चारा घोटाला और लालू काल में अपराधियों के चरम काल को दर्शाया गया है. ये पोस्टर तेजी से सोशल मीडिया में वायरल हो रहा है. खास बात ये है कि पोस्टर में लालू के साथ तेजस्वी यादव को भी दिखाया गया है.

इसके पहल बुधवार को आरजेडी की तकफ से एक पोस्टर लगाया गया था. इस पोस्टर में आरजेडी ने डबल इंजन की सरकार पर निशाना साधा है. जबकि दूसरी तस्वीर JDU के समर्थकों के पोस्टर की है. इसमें लालू के घोटालों की गाथा का जिक्र करके आरजेडी के पोस्टर पर जवाब के रूप में देखा जा रहा है.

अब तक सभी पार्टियों द्वारा जारी किए गए पोस्टर वार में खास बात ये है कि ये हमेशा नीतीश कुमार या लालू यादव के ही इर्द-गिर्द होते हैं. विरोधी पार्टियों द्वारा जारी किए पोस्टर में निशाना नीतीश कुमार या लालू यादव के जरिए ही साधा जा रहा है.

जेडयू के प्रवक्ता राजीव रंजन ने इस पोस्टर को लेकर कहा है कि आधिकारिक तौर पर जेडीयू ने कोई पोस्टर जारी नहीं किया है लेकिन बिहार के जो शुभचिंतक हैं उनको जरूर पीड़ा है. उन्होंने साथ ही कहा है कि जिस तरह से आरजेडी पोस्टर जारी कर रहा है, यह आरजेडी की बेवकूफी है.

वहीं, बीजेपी के प्रवक्ता जीवेश मिश्रा ने बयान देते हुए कहा है कि एनडीए ने कोई पोस्टर जारी नहीं किया है. लालू यादव और आरजेडी के तरफ से जो पोस्टर जारी किया गया है उसके जवाब में आमजन लोगों ने पोस्टर जारी किया है.

साथ ही उन्होंने कहा है कि लालू यादव होटवार जेल में हैं, कोई तीर्थ करने नहीं गए हैं. आरजेडी के लोगों को पोस्टर दिखाने और लगाने का कोई अधिकार नहीं है. अगर वह पोस्टर लगाएंगे तो बिहार की जनता इनके विनाश के और कुकर्म के पोस्टर जरूर जारी करेगी.