नीतीश कुमार ही बता सकते हैं क्यों JDU ने दोनों सदनों में CAA का समर्थन किया: प्रशांत किशोर

प्रशांत किशोर कहा है कि एनआरसी होगी तो गरीब लोगों को इससे सबसे ज्यादा परेशानी होगी. एनआरसी किसी भी हालत मे नहीं लागू होना चाहिए और हमारी पार्टी का भी यही स्टैंड है. 

नीतीश कुमार ही बता सकते हैं क्यों JDU ने दोनों सदनों में CAA का समर्थन किया: प्रशांत किशोर
प्रशांत किशोर ने एनआरसी होगी तो गरीब लोगों को इससे सबसे ज्यादा परेशानी होगी.

पटना: प्रशांत किशोर ने एनआआरसी से जुड़ा एक और बड़ा बयान दिया है. उन्होंने कहा कि जेडीयू ने एनआरसी का विरोध किया है. लेकिन साथ ही उन्होंने ये भी कहा है कि ये नीतीश कुमार ही बता सकते हैं कि किस परिस्थति में पार्टी ने सीएए का लोकसभा और राज्यसभा में समर्थन किया है. 

उन्होंने कहा है कि एनआरसी अगर लागू होगी तो गरीब लोगों को इससे सबसे ज्यादा परेशानी होगी. एनआरसी किसी भी हालत मे नहीं लागू होना चाहिए और हमारी पार्टी का भी यही स्टैंड है.

प्रशांत किशोर ने कहा है कि सीएए में धर्म के आधार पर नागरिकता दे रहे है ये गलत है. जब इसे एनआरसी के साथ लिंक किया जाएगा तो ये सिर्फ धर्म नहीं बल्कि हर वर्ग के साथ भी भेदभाव होगा. सीएए-एनआरसी बीजेपी के ऐजेंडे का हिस्सा है. बीजेपी को ये हक है कि वो सीएए या एनआरसी लागू करने की कोशिश करेंगे.

साथ ही प्रशांत किशोर ने कहा है कि एक साल पहले मैं राजनीति में आया हूं और अपनी जगह बनाने के लिए काम कर रहा हूं. हर चुनाव अपने आप मे अलग चुनाव है. किसी चुनाव के पैटर्न को आप मिला नहीं सकते हैं. सभी राज्यों के चुनाव अलग-अलग होते हैं. मैं बिहार की सरकार मे नहीं हूं. आईपैक मेरी अपनी व्याक्तिगत की संस्था नहीं है.

साथ ही उन्होंने कहा कि ममता बनर्जी की सरकार को आईपैक मदद कर रही है. मैं जेडीयू मे हूं, मैं बीजेपी में नही हूं. अभी तक नीतिश जी ने मेरे काम को लेकर कुछ कहा नहीं है. जब नीतीश जी मुझे कुछ बोलेंगे तब देखेंगे. सात ही उन्होंने दिल्ली चुनाव पर कहा कि देश की जनता का एक बड़ा वर्ग है जो चुनाव के वक्त पर अपना निर्णय बनाता है.