close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

पटना बारिश: PMCH पहुंचे केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद, डेंगू वॉर्ड का लिया जायजा

केन्द्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने हर तरह की मदद का भरोसा दिया है. उन्होंने राजेन्द्र नगर के रोड नंबर एक के साथ कई हिस्सों का दौरा किया, जहां जलजमाव तो नहीं कीचड़ के साथ-साथ गंदगी भी पसरी हुई थी. 

पटना बारिश: PMCH पहुंचे केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद, डेंगू वॉर्ड का लिया जायजा
रविशंकर प्रसाद ने किया PMCH का दौरा.

पटना: बिहार के सबसे बड़े सरकारी अस्पताल यानी पीएमसीएच (PMCH) ने राज्य के लोगों से डेंगू को लेकर नहीं घबराने की सलाह दी है. अधीक्षक डॉक्टर राजीव रंजन के मुताबिक, अब तक 119 मरीज डेंगू (Dengue) की शिकायत के साथ आए थे, लेकिन प्राथमिक जांच के बाद फिलहाल यहां 16 लोगों का इलाज चल रहा है. पीएमसीएच में चार से पांच कमरों में डेंगू के लिए बेड के इंतजाम हैं.

ज्ञात हो कि केंद्रीय मंत्री और पटना साहिब के सांसद रविशंकर प्रसाद (Ravi Shankar Prasad) ने आज पटना के अलग-अलग हिस्सों का दौरा किया. इस दौरान वह पीएमसीएच भी पहुंचा, जहां डेंगू वार्ड में हर तरह की व्यवस्था दिखी. मरीज मच्छरदानी में आराम कर रहे थे और काफी संख्या में मच्छरदारी लगे बेड खाली दिखाई दिए. 

केन्द्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने हर तरह की मदद का भरोसा दिया है. उन्होंने राजेन्द्र नगर के रोड नंबर एक के साथ कई हिस्सों का दौरा किया, जहां जलजमाव तो नहीं कीचड़ के साथ-साथ गंदगी भी पसरी हुई थी. रविशंकर प्रसाद यहां व्यवस्था से नाराज दिखे और उन्होंने निगम के लोगों को फटकार भी लगाई. पीएमसीएच के अंदर क्या हो रहा है इसका भी जायजा लिया. कुछ मरीज संतुष्ट नजर आए तो कुछ ने परेशानी बताई.

दूसरी तरफ पटना के अलग-अलग हिस्सों में मेडिकल कैंप लगाया गया है. कुछ कैंप गैरसरकारी संस्थाओं की तरफ से लगाए गए हैं, तो कुछ कैंप सरकारी संस्थाओं की तरफ से भी लगाए गए हैं. पटना के राजेन्द्र नगर में वैशाली और दिनकर गोलंबर के पास एक कैंप राजेन्द्र नगर आई अस्पताल तो एक कैंप एम्स पटना की तरफ से लगाया गया है. जहां अधिकतर मरीज स्किन से संबंधित दिक्कतों के साथ आए.

रविशंकर प्रसाद जब पीएमसीएच पहुंचे तो वहां अधीक्षक डॉक्टर राजीव रंजन भी मौजूद रहे. उन्होंने बताया कि आज की तारीख में 16 मरीज भर्ती हैं. अधिकतर लोगों को डिस्चार्ज किया गया है. प्राथमिक उपचार के बाद लोगों को छुट्टी दी गई.