केंद्रीय बजट पर लालू यादव ने कहा- 'आखिरी जुमला बजट, बाजार सजाने से कोई फायदा नहीं'

आरजेडी सुप्रीमो लालू यादव ने बजट को लेकर सरकार पर निशाना साधा है.

केंद्रीय बजट पर लालू यादव ने कहा- 'आखिरी जुमला बजट, बाजार सजाने से कोई फायदा नहीं'
लालू यादव ने बजट को सरकार का जुमला करार दिया है. (फाइल फोटो)

नई दिल्लीः केंद्रीय बजट 2019 को मोदी सरकार ने शुक्रवार को संसद में पेश किया है. इस बजट को लेकर माना जा रहा है कि सरकार ने यह ऐतिहासिक बजट पेश किया है. जिसमें किसान से लेकर मध्यम वर्ग के लोगों के लिए बड़ी घोषणाएं की गई है. लेकिन विपक्ष इसे जुमला करार दे रहा है. बजट को लेकर आरजेडी प्रमुख लालू यादव ने भी इसे बीजेपी का आखिरी जुमला बजट बताया है.

आरजेडी सुप्रीमों लालू यादव ने बजट को लेकर कहा है कि यह आखिरी जुमला बजट होगी. वहीं, उन्होंने कहा कि जुमलों का बाजार सजाने से कोई फायदा नहीं होगा. लालू यादव ने केंद्रीय बजट को लेकर सरकार पर निशाना साधा है.

लालू यादव ने ट्वीटर पर लिखा है कि, 'झूठ की टोकरी जुमलों के बाजार में सजाने का कोई फायदा नहीं, लोग अब जुमले सुनते ही नहीं बल्कि समझते भी हैं. समझ कर मुस्कुरातें ही नहीं बल्कि ठहाका लगाते हैं. साथ ही उन्होंने हैशटैग कर लिखा आखिरी जुमला बजट.'

इस ट्विट का मतलब साफ है कि आरजेडी सुप्रीमों लालू यादव ने सरकार पर निशाना साधते हुए बजट को जुमला करार दिया है. साथ ही उन्होंने लोकलुभावन बजट को लेकर तंज कसते हुए कहा है कि जुमलों का बाजार सजाने से कोई फायदा नहीं होगा. क्योंकि जनता भी इसे जुमला समझ रही है.

बता दें, कि लालू यादव चारा घोटाला मामले में सजायाफ्ता हैं. और उनका इलाज रांची रिम्स अस्पताल में की जा रही है. हाल ही में उन्होंने चक्कर आने की शिकायत की थी.

मोदी सरकार द्वारा जो 2019 का बजट पेश किया गया है उससे सत्ताधारी दल के नेता खुश हैं. वहीं, वह विपक्ष पर निशाना साधते हुए कह रहे हैं कि उनके पास अब बोलने के लिए कुछ नहीं है. यह एक तरह से सर्जिकल स्ट्राइक है. जिसके बाद विपक्ष ने चुप्पी साध ली है.

वहीं, कांग्रेस समेत अन्य विपक्षी नेताओं ने कहा है कि यह बजट चुनाव से पहले का लोकलुभावन बजट हैं. इसे चुनावी बजट के तौर पर पेश किया गया है. चुनाव से पहले ऐसे बजट पेश करने का मतलब साफ है कि सरकार जनता को ठगना चाहती है.

आपको बता दें कि, मोदी सरकार की ओर से बजट में काफी अहम और बड़ी घोषणाएं की गई है. जहां किसानों के लिए विशेष पैकेज, पेंशन की घोषणा की गई है. वहीं, मध्यम वर्ग के लोगों के लिए टैक्स स्लैब में 5 लाख रुपये की इनकम तक टैक्स छूट की बड़ी राहत दी है. इससे जनता भी काफी खुश नजर आ रही है.