महिलाओं के सहारे चुनावी नैय्या पार करेगी आरजेडी?

आरजेडी विधानमंडल दल की बैठक में हुआ फैसला, हर बूथ के लिए बनेगी महिला कमेटी

महिलाओं के सहारे चुनावी नैय्या पार करेगी आरजेडी?
राबड़ी देवी के आवास पर आरजेडी विधानमंडल की बैठक की गई.

पटनाः लोकसभा और विधानसभा में महिलाओं के 33 फीसदी आरक्षण की विरोधी मानी जानेवाली आरजेडी ने बड़ा फैसला लिया है. पटना में पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी के आवास पर पार्टी विधानमंडल दल की बैठक में हर बूथ पर महिलाओं की अलग से कमेटी बनाने का फैसला लिया गया. पार्टी इस बार के लोकसभा चुनाव में महिला वोटरों को खास अहमियत देने जा रही है. माना जा रहा है कि महिलाओं के सहारे आरजेडी चुनाव की वैतरणी पार करने की तैयारी कर रही है.

आरजेडी के प्रदेश अध्यक्ष रामचंद्र पूर्वे ने कहा कि पार्टी की महिला मोर्चा की जल्द ही बैठक बुलायी जाएगी. जिसमें जिलाध्यक्ष समेत अन्य पदाधिकारियों को बूथ स्तर पर कमेटी बनाने की जिम्मेदारी सौंपी जाएगी. उन्होंने कहा कि आरजेडी ही ऐसा दल है, जिसमें बिहार को राबड़ी देवी के रूप में पहली महिला मुख्यमंत्री दिया. हम लोग महिलाओं के हितों की रक्षा करनेवाले हैं और राजनीति में उनकी उपेक्षा नहीं हो, इसके पक्षधर हैं.

आरजेडी प्रदेश अध्यक्ष से जब पूछा गया कि लोकसभा और विधानसभा में महिलाओं के आरक्षण के मुद्दे पर उनकी क्या राय है, तो उन्होंने कहा कि जिन सीटों पर महिलाओं के जीत की उम्मीद होगी. वहां से उन्हें टिकट दिया जाएगा. हमने विधानसभा में 10 महिला प्रत्याशियों को टिकट दिया था. जिसमें सभी ने जीत दर्ज की थी.

इधर, आरजेडी के राष्ट्रीय प्रवक्ता मनोज झा ने कहा कि आरजेडी के ऊपर तमाम तरह के सवाल उठाये जाते रहे हैं, लेकिन अब बूथ स्तर पर महिलाओं को बढ़ाने का फैसला लिया गया है. इससे पार्टी की स्ट्रेंथ का पता चलता है. मनोज झा ने कहा कि पार्टी लोकसभा और विधानसभा में महिलाओं के 33 फीसदी आरक्षण की विरोधी नहीं है. हम आरक्षण में पिछड़ों और दलितों को हक के देने के पक्ष में हैं. लेकिन ये बात अन्य पार्टियों को समझ में नहीं आ रही है.

उन्होंने कहा जो आरक्षण के मर्म को नहीं समझें, उनको क्या कहा जा सकता है. हमारी बात को मानने पर ही सामाजिक न्याय की बात सही होगी. अगर राजनीतिक दल ऐसा करने को तैयार हैं, तो किसने रोका है. वो बदलाव करें, हम समर्थन देने को तैयार हैं. हम महिलाओं को उनका अधिकार देने के विरोधी नहीं हैं.