close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

देवघर: युवाओं की पहल ने भरे भूखों के पेट, रोटी बैंक से जरूरतमंद को मिल रहा खाना

महादेव रोटी बैंक के आयोजक का कहना है कि देवघर सदर अस्पताल में काफी तादाद में वैसे मरीज हुंचते हैं, जिनकी माली हालत कुछ ठीक नहीं होती.

देवघर: युवाओं की पहल ने भरे भूखों के पेट, रोटी बैंक से जरूरतमंद को मिल रहा खाना
देवघर में रोटी बैंक से जरूरतमंदों को मिल रहा है खाना.

देवघर: झारखंड के देवघर (Deoghar) में सालभर पहले कुछ युवाओं ने मिलकर एक नेक पहल की. पहल गरीबों के पेट भरने की. पहल भूखे-जरूरतमंद की भूख मिटाने की. पहल, जिससे खाना बर्बाद न हो. पहल कि सबको पेट भर खाना मिल सके. पहल कि कोई भूखे पेट न सोए. दरअसल, एक साल पहले देवघर में महादेव रोटी बैंक (Roti Bank) की नींव रखी गई. विजय प्रताप सनातन ने कुछ युवाओं के साथ मिलकर इस बैंक की शुरूआत की, जिसका मकसद भूखे लोगों को पेट भर खाना खिलाना है.

महादेव रोटी बैंक के आयोजक का कहना है कि देवघर सदर अस्पताल में काफी तादाद में वैसे मरीज हुंचते हैं, जिनकी माली हालत कुछ ठीक नहीं होती. बमुश्किल ये लोग इलाज कराने इस अस्पताल में आते हैं, जिनके पास खाने के लिए कुछ नहीं होता है. इन मरीजों और उनके साथ आए परिजनों को महादेव रोटी बैंक के सदस्य रात्रि भोजन कराते हैं.

महादेव रोटी बैंक को नेकी काम करते हुए एक साल पूरे हो गए. इस खास मौके पर देवघर सदर अस्पताल में एक विशेष कार्यक्रम का आयोजन किया गया. कार्यक्रम में देवघर सिविल सर्जन सहित कई गणमान्य लोगों ने हिस्सा लिया, जिसके बाद युवाओं के साथ मिलकर देवघर सदर अस्पताल के मरीजों और उनके परिजनों को खाना भी अपने हाथों से खिलाया.

इस मौके पर आयोजकों ने कहा कि गरीबों को भूखे पेट सोना न पड़े, इसलिए इसकी शुरुआत की गई. महादेव रोटी बैंक की शुरुआत 2 से 3 लोगों से हुई और कहते हैं न कि लोग आते गए, कारवां बनता गया. महादेव रोटी बैंक के साथ भी कुछ ऐसा ही हुआ. आज की तारीख में दर्जन भर से ज्यादा युवा इस मुहीम में शामिल हो गए हैं. सबसे अच्छी बात यह है कि स्वयं के सहयोग से ही महादेव रोटी बैंक चलाया जा रहा है, जिसमें किसी से किसी भी तरह का चंदा नहीं लिया जाता.

इनका मकसद है कि वैसे गरीब परिवार जो बड़ी मुश्किल से देवघर सदर अस्पताल में इलाज कराने पहुंच तो जाते हैं, लेकिन इन्हें खाने के लिए कुछ नहीं मिलता और होटल से खरीद कर यह खा नहीं सकते. ऐसे जरूरतमंद मरीज और उनके परिवार की महादेव रोटी बैंक सहायता करता है और रोजाना रात्रि में इनको भरपेट भोजन कराता है.

महादेव रोटी बैंक की निस्वार्थ सेवा भाव की न सिर्फ देवघर सदर अस्पताल पहुंचे मरीज, उनके परिजन बल्कि आस-पास के लोग भी तारीफ करते थकते नहीं. दिलचस्प बात ये है कि इससे न सिर्फ भूखे लोगों का पेट भरता है, बल्कि खाने-निवाले की बर्बादी भी नहीं होती. साथ ही महादेव रोटी बैंक कहीं न कहीं कुपोषण जैसी समस्या को रोकने में भी मदद कर रहा है.

-- Rashmi Sharma, News Desk