बिहार : गुप्त सूचना के आधार पर छापेमारी करने पहुंची पुलिस टीम को ग्रामीणों ने बनाया बंधक

 बताया जाता है कि बिना सर्च वारंट के आधी रात में कदमगाछी पंचायत के पैक्स अध्यक्ष असित कुमार साह उर्फ चंचल साह के घर पुलिस आ धमकी. इस दौरान टीम के साथ एक भी महिला पुलिस नहीं थी.

बिहार : गुप्त सूचना के आधार पर छापेमारी करने पहुंची पुलिस टीम को ग्रामीणों ने बनाया बंधक
कटिहार पुलिस को ग्रामीणों ने बनाया बंधक.

कटिहार : गुप्त सूचना के आधार पर छापेमारी करना बिहार पुलिस के जवानों को भारी पड़ गया. कटिहार के सुधानी ओपी अध्यक्ष को स्थानीय लोगों ने आधी रात को बंधक बना लिया गया. इतना ही नहीं, पुलिस पर महिलाओं के साथ दुर्व्यवहार का आरोप भी लगाया गया है. आरोप है कि शराब की तलाशी के लिए दुकानों और घरों में बगैर महिला पुलिस बल के साथ छापेमारी कर रही टीम घुस गई.

ग्रामीणों ने ओपी अध्यक्ष राजेश कुमार को तबतक बनाए रखा, जबतक पुलिस अनुमंडल पदाधिकारी मौके पर नहीं पहुंचे. बताया जाता है कि बिना सर्च वारंट के आधी रात में कदमगाछी पंचायत के पैक्स अध्यक्ष असित कुमार साह उर्फ चंचल साह के घर पुलिस आ धमकी. इस दौरान टीम के साथ एक भी महिला पुलिस नहीं थी.

आरोप है कि छापेमारी के दौरान पुलिस ने बेतरतीब ढ़ंग से घर की जांच की. महिलाओं से अभद्र व्यवहार करने का भी आरोप लगा है. मामला सुधानी ओपी अंतर्गत आलेपुर गांव का है. घर के बाद दुकान खुलवा कर भी जांच किया गया. आक्रोशित ग्रामीणों ने थाना अध्यक्ष को घंटों बंधक बनाकर रखा. मौके पर पहुंचे एसडीपीओ पंकज कुमार द्वारा  तबादले के आश्वासन के बाद स्थानीय ग्रामीण शांत हुए.

ज्ञात हो कि बिहार में वर्षों से पूर्ण शराबबंदी कानून लागू है. इसके तहत राज्य में शराब पीना, बेचना या घरों में रखना गौरकानूनी है. आर्थिक जुर्माने के साथ-साथ कैद की सजा के प्रावधान भी हैं.