close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

गया में सरकारी स्कूल की किताब पर छपा गलत रंग का तिरंगा, प्रशासन ने वितरण पर लगाई रोक

किताबों को छापने के दौरान ऐसी लापरवारी बरती गई कि किताब में इस्तेमाल किए गए तिरंगे के रंग में सारी पुस्तकें की छपाई कर दी गई और किताबें बाजार में आ गई. 

गया में सरकारी स्कूल की किताब पर छपा गलत रंग का तिरंगा, प्रशासन ने वितरण पर लगाई रोक
किताब में इस्तेमाल किए गए तिरंगे के रंग में सारी पुस्तकें की छपाई कर दी गई है.

गया: बिहार के गया जिले बिहार सरकार के स्कूलों में तीसरी कक्षा के किताब में देश के तिरंगे का रंग ही अलग कर दिया गया. सरकार ने तीसरी कक्षा में पढ़ने वाले बच्चों के लिए किताब की छपाई का जिम्मा बिहार स्टेट टेक्स्ट बुक पब्लिलिंग कॉरपोरेशन लिमिटेड कंपनी, पटना को सौंपा गया था.

किताबों को छापने के दौरान ऐसी लापरवारी बरती गई कि किताब में  गलत रंगा का झंडा छपा है और साथ इसी रंग में सारी किताबें की छपाई कर दी गई है. ये किताबें बाजार में आ गई और लोगों ने खरीदना भी शुरू कर दिया. इसकी जानकारी जब शिक्षा विभाग को लगी तो विभाग ने आनन-फानन में सभी शिक्षा पाधिकारियों को इसकी सूचना दी और किताबों को नहीं बांटने का निर्देश दिया गया.

किताब की जांच में पाया गया कि कक्षा तीन के पर्यावरण और हम के अंतिम पेज पर राष्ट्र गान के साथ राष्ट्रीय ध्वज का रंग ही बदला हुआ है. इसके बारे में जिला कार्यक्रम पाधिकारी से बात की गई तो उन्होंने बताया कि सभी स्कूलों व बीआरसी को निर्देश दिया गया है कि किताब में हुई गड़बड़ी को ठीक करने के बाद ही किताब का वितरण किया जाएगा.

हैरानी की बात ये है कि हर साल बड़ी संख्या में किताबों की छपाई की जाती है लेकिन जब महज तीसरी कक्षा के बच्चों के किताबों में ही राष्ट्रीय ध्वज के बारे में गलत जानकारी दी जाएगी तो बच्चे ना सिर्फ कन्फ्यूजन बल्कि गलत इंफॉर्मेशन का भी शिकार होंगे.