close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

एयर इंडिया की फ्लाइट में बड़ी लापरवाही, यात्री के ब्रेकफास्ट में निकला कॉकरोच

एयर इंडिया की फ्लाइट में एक यात्री को परोसे गए ब्रेकफास्ट में मरा हुआ कॉकरोच पड़ा मिला.

एयर इंडिया की फ्लाइट में बड़ी लापरवाही, यात्री के ब्रेकफास्ट में निकला कॉकरोच
यात्री को परोसे गए ब्रेकफास्ट में कॉकरोच .

भोपाल: मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल से मुंबई जाने वाली एयर इंडिया की फ्लाइट में घोर लापरवाही का मामला सामने आया है जहां एक यात्री को परोसे गए ब्रेकफास्ट में कॉकरोच पड़ा मिला. इसके बाद यात्रियों ने हंगामा खड़ा कर दिया और विमान के प्रबंधन को शिकायत दर्ज करवाई.

यात्री रोहित राज सिंह ने बताया कि शनिवार सुबह वह एयर इंडिया की फ्लाइट AI-634 में सवार होकर भोपाल से मुंबई के लिए सफर कर रहे थे. इसी दौरान उनको फ्लाइट में ब्रेकफास्ट परोसा गया तो उसमें कॉकरोच निकला. यह देखते ही यात्री ने क्रू मेंबर से शिकायत दर्ज कराई. इसके बावजूद उसने दूसरे यात्रियों को भी उसी तरह के पैकेट का नाश्ता परोस दिया.

इस बड़ी लावरवाही को लेकर यात्री ने फ्लाइट की कंप्लेंट कॉपी में अपनी शिकायत दर्ज कराते हुए क्रू मेंबर से सिग्नेचर करा लिए. वहीं, इस मामले की जानकारी सोशल मीडिया पर शेयर की. उन्होंने बताया कि इस मामले में एयर इंडिया प्रबंधन ने कोई कार्रवाई नहीं की. बताया गया कि इस फ्लाइट में मुंबई एयरपोर्ट से ही खाना लोड किया जाता है.

11 वापसी उड़ानों में परोसे जा रहे हैं भारत से भंडारित भोजन
एयर इंडिया ने आठ विदेशी शहरों से 11 वापसी उड़ानों में भारत से भंडारित भोजन को परोसना शुरू कर दिया है. इससे उसकी सालाना तकरीबन 49 करोड़ रुपये बचाने की योजना है.

एयर इंडिया के एक अधिकारी के मुताबिक, इन 11 रिटर्न फ्लाइटों में कोपनहेगन-दिल्ली, स्टॉकहोम-दिल्ली, बर्मिंघम-अमृतसर, बर्मिंघम-दिल्ली, वियना-दिल्ली, मेड्रिड-दिल्ली, सिंगापुर दिल्ली, सिंगापुर-मुंबई, बैंकॉक-दिल्ली, बैंकॉक-मुंबई और शंघाई-दिल्ली उड़ानें शामिल हैं.

अधिकारी ने बताया, ‘‘जब विमान यहां (भारत से) रवाना होता है तो भोजन को ताजा रखने के लिये उसे चिलर में रखा जाता है, ताकि जब विमान दूसरे देश के शहर से भारतीय शहर में लौटे तो इस भोजन को यात्रियों को परोसा जा सके.’’ उन्होंने आश्वस्त किया कि यह भोजन ‘‘ताजा और स्वादिष्ट’’ रहता है.

अधिकारी ने कहा, ‘‘हमारे आकलन के अनुसार हम इन 11 उड़ानों में कैटरिंग लागत में सालाना 48.97 करोड़ रुपये की बचत कर सकेंगे.’’