फिर छलका पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ का दर्द, बोले- सरकार जाने का गम नहीं, लेकिन....

सेवादल में कार्यकर्ताओं में जान फूंकते हुए कमलनाथ ने कहा कि आज हमारा मुकाबला भाजपा से नहीं भाजपा के संगठन से है. 

फिर छलका पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ का दर्द, बोले- सरकार जाने का गम नहीं, लेकिन....
फाइल फोटो.

भोपाल: कांग्रेस के दिग्गज नेता कमलनाथ को अभी-भी सरकार जाने का गम सता रहा है. बुधवार को कांग्रेस सेवादल के कार्यक्रम में एक बार फिर उनका दर्द छलक गया. उन्होंने कहा कि मुझे सरकार जाने का गम नहीं है, बस इस बात का दुख है कि जो काम शुरू किए वो आगे नहीं बढ़ पाए.

रजनीश हरवंश सिंह को प्रदेश कांग्रेस सेवादल के अध्यक्ष पद की शपथ दिलाने के बाद अपने संबोधन में पूर्व सीएम कमलनाथ ने कहा कि 15 साल बाद मध्य प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनी थी इसलिए सभी को बहुत सारी आशाएं थीं. 15 महीने के कार्यकाल में सिर्फ 11 महीने ही काम करने को मिला, लेकिन 11 महीने में ही हमने कांग्रेस की नीयत और नीतियों का परिचय पूरे प्रदेश से करा दिया था.

सेवादल में कार्यकर्ताओं में जान फूंकते हुए कमलनाथ ने कहा कि आज हमारा मुकाबला भाजपा से नहीं भाजपा के संगठन से है. उपचुनाव में ज्यादा टाइम नहीं बचा है, हमें अपनी बात मतदाता तक पहुंचानी है. उन्होंने कहा कि मुझे मध्य प्रदेश की जनता पर विश्वास है वो मीडिया की राजनीति के शिकार नहीं बनने वाले. मध्य प्रदेश के मतदाता महज घोषणाओं की राजनीति करने वालों का शिकार नहीं होंगे. उपचुनाव तक सेवादल हर बूथ पर काम करेगा.

कमलनाथ ने एक बार फिर दोहराया कि विश्व में पहली बार सौदेबाजी की सरकार बनी. इतिहास में पहली बार प्रजातंत्र के साथ इतना खिलवाड़ हुआ कि बीजेपी ने सौदे की सरकार बना ली. उन्होंने कहा कि हमारे स्वतंत्रता सेनानियों ने कभी नहीं सोचा होगा कि इस प्रकार के लोग भी होंगे, जो सौदा करेंगे.