वैक्सीनेशन में 'टेक्निकल' गड़बड़ी! 5 माह पहले मर चुकी महिला को लग गया सेकंड डोज, सर्टिफिकेट भी हो गया जारी
X

वैक्सीनेशन में 'टेक्निकल' गड़बड़ी! 5 माह पहले मर चुकी महिला को लग गया सेकंड डोज, सर्टिफिकेट भी हो गया जारी

उनका वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट भी डाउनलोड हो गया. मैसेज सामने आने के बाद पीड़ित ने अस्पताल प्रबंधन पर लापरवाही का आरोप लगाया.

वैक्सीनेशन में 'टेक्निकल' गड़बड़ी! 5 माह पहले मर चुकी महिला को लग गया सेकंड डोज, सर्टिफिकेट भी हो गया जारी

चंद्रशेखर सोलंकी/रतलामः वैक्सीनेशन के मामले में मध्य प्रदेश आए दिन नए रिकॉर्ड स्थापित करता जा रहा है. वहीं सौ फीसदी वैक्सीनेशन की जद्दोजहद में रतलाम जिले से अनोखा मामला सामने आया. यहां पांच महीने पहले कोरोना से जान गंवाने वाली महिला के मोबाइल पर वैक्सीन का दूसरा डोज लगने का मैसेज आ गया. मृतिका के परिजनों के पास आए इस मैसेज के बाद परिजनों ने हॉस्पिटल प्रबंधन पर लापरवाही का आरोप लगाया. 

कोरोना से ही हुई थी मौत
मामला रतलाम के पी एंड टी कॉलोनी में रहने वाली महिला प्रकाश दीक्षित का है. उनके दामाद हिमांशु जोशी ने बताया कि उनकी सास को वैक्सीन का पहला डोज 4 मार्च को लगवाया था. फिर वह संक्रमित पाई गईं, मेडिकल कॉलेज में उनका इलाज करवाया गया. लेकिन 17 अप्रैल को उनकी मौत हो गई. 

यह भी पढ़ेंः- कलेक्टर ऑफिस में युवक ने खाया जहर, इस वजह से तंग आकर उठाया यह कदम

मोबाइल पर आया वैक्सीनेशन का मैसेज
पीड़िता के दामाद ने बताया कि उनके मोबाइल पर पिछले दिनों एक मैसेज आया जिसमें लिखा था कि प्रकाश दीक्षित को वैक्सीन का सेकंड डोज लग गया है. यहां तक कि उनका वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट भी डाउनलोड हो गया. मैसेज सामने आने के बाद पीड़ित ने अस्पताल प्रबंधन पर लापरवाही का आरोप लगाया. 

यह भी पढ़ेंः- MP:भारी बारिश से फसल हुई तबाह, बेबस किसानों ने सरकार से लगाई गुहार

20 सितंबर को लगा सेकंड डोज
उन्होंने कहा कि पहले तो सही इलाज नहीं मिल पाने से कोरोना से मौत हो गई. जिस मामले में शिकायत के पांच महीने बाद भी जांच पूरी नहीं हो सकी. वहीं मौत के बाद भी उनका वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट जारी कर दिया गया. मोबाइल पर आए मैसेज में जानकारी लिखी है कि 20 सितंबर की शाम 7 बजे शहर के कम्यूनिटी हॉल अल्कापुरी में उन्हें कोरोना वैक्सीन का दूसरा डोज लग गया है. 

स्वास्थ्य विभाग ने बताई टेक्निकल गड़बड़ी
इस मामले पर सफाई देते हुए रतलाम CMO डॉ प्रभाकर ननावरे ने बताया कि त्रुटिवश यह सर्टिफिकेट जारी हो गया है. इस टेक्निकल गड़बड़ी को जल्द ही सुधार दिया जाएगा. 

यह भी पढ़ेंः- CMO के पैरों पर गिरी महिला! नहीं मिल रहीं मूलभूत सुविधाएं, बोलीं- किस्मत में नर्क, लेकिन बिजली-पानी तो मिले

WATCH LIVE TV

Trending news