किसानों के लिए खुशखबरी: IFFCO अभी नहीं बढ़ाएगा इन उर्वरकों का दाम, जानिए वजह

आपको बता दें कि पिछले रबी सीजन में भी इफको ने उर्वरकों के दाम को नहीं बढ़ाया था. वर्तमान समय में भारत में इफको के पांच उर्वरक संयंत्र हैं. पिछले 54 वर्षों से इफको भारतीय किसानों को विश्व स्तर की भू-पोषक तत्व और कृषि-सेवाएं प्रदान करने वाली शीर्ष संस्था बनी हुई है.

किसानों के लिए खुशखबरी: IFFCO अभी नहीं बढ़ाएगा इन उर्वरकों का दाम, जानिए वजह
सांकेतिक तस्वीर.

भोपाल: देशभर के लाखों किसानों के लिए जरूरी खबर है. दुनिया की सबसे बड़ी सहकारी संस्था (IFFCO) ने 31 मार्च 2021 तक डीएपी (DAP), एनपीके (NPK) और एनपीएस उर्वरकों के दाम (एमआरपी) नहीं बढ़ाने की घोषणा की है. इस बात की जानकारी इफको के एमडी यूएस अवस्थी ने खुद ट्वीट कर दी.

BJP अनुसूचित मोर्चा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी गठित,  MP के सूरज केरो को बनाया गया कोषाध्यक्ष

इफको के एमडी यूएस अवस्थी ने ट्वीट कर लिखा,'' कंपनी ने पीएम नरेंद्र मोदी के 2022 तक किसानों की आय को दोगुना करने के अभियान से इसे जोड़ा है. अंतरराष्ट्रीय मार्केट में कच्चे माल के बढ़ोतरी के बावजूद भी इनके दाम में बढ़ोतरी नहीं की जाएगी.''

 

आपको बता दें कि पिछले रबी सीजन में भी इफको ने उर्वरकों के दाम को नहीं बढ़ाया था. वर्तमान समय में भारत में इफको के पांच उर्वरक संयंत्र हैं. पिछले 54 वर्षों से इफको भारतीय किसानों को विश्व स्तर की भू-पोषक तत्व और कृषि-सेवाएं प्रदान करने वाली शीर्ष संस्था बनी हुई है. इफको भारत में उत्पादित फॉस्फेटिक के लगभग 32.1 फीसदी और नाइट्रोजन उर्वरकों में 21.3 फीसदी का योगदान देता है. 

बजट में सिंधिया खेमे के मंत्रियों पर भारी पड़े CM शिवराज के मंत्री, मिला 15,440 करोड़ ज्यादा बजट

पिछले वर्षों की अपेक्षा देश में बढ़ी है यूरिया की खपत
देश को कृषि क्षेत्र में आत्मनिर्भर बनाने के लिए हरित क्रांति के बाद यूरिया का प्रयोग बड़े स्तर पर शुरू किया गया था. जहां 1980 में यूरिया की खपत 60 लाख टन थी, वहीं 2017 में बढ़कर 3 करोड़ टन तक जा पहुंची. 2018-19 में 320.20 लाख टन की बिक्री हुई. जबकि 2019-20 में 336.97 लाख टन की खपत दर्ज की गई.

WATCH LIVE TV