close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राम मंदिर के लिए महाकाल के दरबार में शुरू हुआ अभिषेक, निर्णय आने तक रोजाना होगी पूजा

अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए भगवान महाकाल से प्रार्थना की जा रही है. विश्व प्रसिद्ध उज्जैन के महाकाल मंदिर में मंदिर के पंडे पुजारी सहित साधु-संतों ने मिलकर राम मंदिर निर्माण के लिए पूजा की.

राम मंदिर के लिए महाकाल के दरबार में शुरू हुआ अभिषेक, निर्णय आने तक रोजाना होगी पूजा

उज्जैनः अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए भगवान महाकाल से प्रार्थना की जा रही है. विश्व प्रसिद्ध उज्जैन के महाकाल मंदिर में मंदिर के पंडे पुजारी सहित साधु-संतों ने मिलकर राम मंदिर निर्माण के लिए पूजा की. सुप्रीम कोर्ट के आने वाले निर्णय को सवा सौ करोड़ देशवासियों के पक्ष में हो और अयोध्या में राम मंदिर का भव्य निर्माण किया जाए, इसके लिए मंदिर में पूजन अर्चन अभिषेक किया जा रहा है.

दरअसल, अयोध्या में राम मंदिर का फैसला सुप्रीम कोर्ट करने वाला है और करोड़ों देशवासियों की यही कामना है कि अयोध्या में राम का भव्य मंदिर बने. इसको लेकर पंडित पुजारियों ने महाकाल से प्रार्थना की और गर्भ ग्रह में पूजन अभिषेक कर सुप्रीम कोर्ट का निर्णय और सवा सौ करोड़ देशवासियों के पक्ष में हो इसको लेकर पूजन अर्चना करते दिखाई दिए. साथ ही मंदिर के प्रमुख पुजारी महेश पुजारी ने बताया कि सुप्रीम कोर्ट का निर्णय आने तक महाकाल मंदिर में राम मंदिर निर्माण के लिए रोजाना पूजन अर्चन किया जाएगा.

देखें LIVE TV

बता दें जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 के हटाए जाने और अयोध्या विवाद पर सुप्रीम कोर्ट के संभावित फैसले को देखते हुए पहले ही एनआईए ने आतंकी हमले की आशंका जाहिर की थी. जिसके बाद गोरखपुर में पांच संदिग्धों के नजर आने की सूचना के बाद ATS यूपी सहित सुरक्षा एजेंसियां हाई अलर्ट पर हैं.

अयोध्या केस: सुन्‍नी वक्‍फ बोर्ड के अलावा अन्‍य मुस्लिम पक्षकार समझौते को तैयार नहीं

खूफिया एजेंसियों ने पुलिस को इस संबंध में जानकारी दी थी, जिसके बाद गोरखपुर के SSP ने पुलिस विभाग के अफसरों को अलर्ट करते हुए पत्र जारी किया है. इसके साथ ही धार्मिक महत्व को देखते हुए उज्जैन में भी सुरक्षा व्यवस्था की बात उठी है. हालांकि, उज्जैन एसपी सचिन अतुलकर ने इस संबंध में कहा था कि, महाकाल मंदिर और पूरे उज्जैन में पुलिस वैसे भी अलर्ट रहती है और संवेदनशील जगहों पर निगाहें बनाए रखती है. इसलिए स्थानीय लोगों को चिंता करने की जरूरत नहीं है.