close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान की 'मरू गंगा' में शुरू हुई पानी की आवक, महिलाओं ने गीत गाकर किया स्वागत

जब राजस्थान की मरू गंगा कही जाने वाली लूनी नदी में पानी की आवक शुरू हुई तो बाड़मेर जिले के लोगों का खुशी का कोई ठिकाना नहीं था. 

राजस्थान की 'मरू गंगा' में शुरू हुई पानी की आवक, महिलाओं ने गीत गाकर किया स्वागत
लूनी नदी में पानी की आवक शुरू हुई तो बाड़मेर जिले के लोगों का खुशी का कोई ठिकाना नहीं था.

भूपेश आचार्य/बाड़मेर: राजस्थान सहित पूरे देश के कई हिस्सों में जबरदस्त बारिश हो रही है वही अभी तक बाड़मेर जिले में बारिश बहुत कम हुई है लेकिन जब आज राजस्थान की मरू गंगा कही जाने वाली लूनी नदी में पानी की आवक शुरू हुई तो लोगों की खुशी का कोई ठिकाना नहीं था महिलाओं ने पारंपरिक गीत गाकर मरू गंगा का का स्वागत किया आप भी देखिए किस तरीके से देसी अंदाज में पानी रेगिस्तान में आने के बाद महिलाएं गीत गाकर स्वागत कर रही है

एक तरफ तो बारिश का पानी देश के कई हिस्सों में आकर बचाना है. वहीं दूसरी तरफ राजस्थान के रेगिस्तान बाड़मेर जिले में पानी के लिए लोग आज भी तरस रहे हैं. लेकिन जब राजस्थान की मरू गंगा कही जाने वाली लूनी नदी में पानी की आवक शुरू हुई तो बाड़मेर जिले के लोगों का खुशी का कोई ठिकाना नहीं था. हर कोई पानी को देखने के लिए बेताब नजर आ रहा था. वहीं महिलाओं ने पारंपरिक अंदाज में गीत गाकर मरू गंगा के पानी का स्वागत किया. राजस्थान के बाड़मेर जिले में यह परंपरा है कि जब भी लूनी नदी में पहली बार पानी आता है तो उसका पारंपरिक अंदाज से स्वागत किया जाता है

राजस्थान के बाड़मेर जिले में मानसून कितने दिन बीत जाने के बाद भी अभी तक बहुत कम बारिश हुई है लिहाजा पानी की एक बूंद के लिए रेगिस्तान के लोग तरस रहे हैं रेगिस्तान के लोगों का कहना है कि जिस तरीके से मरू गंगा लूनी नदी में पानी आया है इससे हम बेहद खुश है क्योंकि नदी से पानी रिचार्ज होता है और हमारे मवेशियों को पीने के लिए पानी और चारा मिल सकेगा लिया जा हमारी खुशी का कोई ठिकाना नहीं है

बाड़मेर जिले में पिछले 3 साल से लगातार अकाल पड़ रहा है ऐसे में लूनी नदी में पानी की आवक से अब लोगों को उम्मीद जगी है कि इस बार अकाल से पीछा छूट जाएगा और यहां के लोगों को पीने का पानी मिलेगा जिसके चलते लोग पानी की आवक शुरू होते ही पानी को देखने के लिए नदी के किनारे पहुंच रहे हैं तो कोई नदी के अंदर पानी को छूकर उसका स्वागत कर रहा है.