लॉकडाउन में गहलोत सरकार का किसानों को तोहफा, बांटा ब्याज मुक्त फसली ऋण

 10 हजार करोड़ रुपये खरीफ सीजन में, 6 हजार करोड़ रुपये रबी सीजन में वितरित किया जाएगा. 

लॉकडाउन में गहलोत सरकार का किसानों को तोहफा, बांटा ब्याज मुक्त फसली ऋण
सीएम अशोक गहलोत.

जयपुर: लॉकडाउन के बीच गहलोत सरकार ने लाखों किसानों को बड़ी राहत दी है. प्रदेश में 16 अप्रैल से शुरू हुए खरीफ फसली ऋण वितरण से एक माह में 2 हजार 198 करोड़ रुपये का ब्याज मुक्त फसली ऋण वितरण का हुआ है. 

इससे 7 लाख 24 हजार 684 किसानों को लाभ मिल चुका है. 25 लाख किसानों को वर्ष 2020-21 में 16 हजार करोड़ रुपये का ब्याज मुक्त अल्पकालीन फसली ऋण का वितरण किया जाएगा.

25% तक फसली ऋण बढ़ाकर दिया जा रहा
मंत्री उदयलाल आंजना ने बताया कि 10 हजार करोड़ रुपये खरीफ सीजन में, 6 हजार करोड़ रुपये रबी सीजन में वितरित किया जाएगा. उन्होंने बताया कि इस वर्ष किसानों को खरीफ फसली ऋण के तहत 25 प्रतिशत तक फसली ऋण बढ़ाकर दिया जा रहा हैं. उन्होंने बताया कि इस वर्ष भी 3 लाख नए किसानों को फसली ऋण से जोड़ा जाएगा. उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत कोरोना महामारी के दौरान लॉकडाउन के चलते किसानों को उनके कृषि कार्यों में कम से कम परेशानी हो, इसके लिए उनके हित में निरन्तर फैसले ले रहे हैं.

31 अगस्त तक बंटेगा खरीफ का ऋण
सहकारिता मंत्री ने बताया कि केंद्रीय सहकारी बैंकों द्वारा अल्पकालीन फसली ऋण खरीफ सीजन में 31 अगस्त तक वितरण होगा. रबी सीजन में फसली ऋण 1 सितंबर, 2020 से 31 मार्च, 2021 तक किसानों को वितरित किया जाएगा.

सोशल डिस्टेंसिंग की पालना जरूरी
प्रमुख शासन सचिव, सहकारिता नरेशपाल गंगवार ने बताया कि फसली ऋण वितरण के दौरान यथासम्भव पैक्स/लैम्पस स्तर पर ही कार्य संपादित करने के निर्देश सीसीबी के प्रबंध निदेशकों को दिए गए हैं. इसी प्रकार सभी पैक्स/लैम्पस को यह सुनिश्चित करने को कहा है कि बैंक शाखाओं एवं पैक्स/लैम्पस में सोशल डिस्टेंसिंग की पालना की जाए. फसली ऋण वितरण में कम परिणाम देने वाले जिलों के संबंधित अधिकारियों के खिलाफ कार्यवाही की जाएगी.