भरतपुर में 44 लोग हुए फूड प्वाइजनिंग के शिकार, अस्पताल में मची अफरा-तफरी

 एक साथ इतने मरीजों के अस्पताल में भर्ती होने पर अस्पताल में अफरा-तफरी का माहौल हो गया. उधर घटना की गंभीरता को देखते हुए अस्पलात में इमरजेंसी ड्यूटी पर ऐलान कर दिया गया.

भरतपुर में 44 लोग हुए फूड प्वाइजनिंग के शिकार, अस्पताल में मची अफरा-तफरी
जिसने भी शादी से बचा हुआ गाजर हलवा और मिठाई खाई वह बीमार होता गया.

सवाई माधोपुर: भरतपुर संभार के गंगापुर सिटी शादी में बची हुई मिठाई खाकर शहर की राजीव कॉलोनी में 44 जने बीमार हो गए. सभी को देर रात अचेत अवस्था में सामान्य चिकित्सालय में भर्ती कराया गया. 

दरअसल, कॉलोनी के ही एक दुकानदार ने शादी से बची हुई मिठाइयां खरीदी थी. जिसके बाद दुकानदार ने उन मिठाइयों को कॉलोनी में बेच दिया. वहीं, लोगों ने यह मिठाई खरीद ली. लेकिन जिसने भी यह मिठाई खाई वह फूड प्वाइजनिंग का शिकार हो गया. वहीं, एक साथ इतने लोगों को फूड प्वाइजनिंग की शिकायत होने बाद सभी मरीजों को पास के अस्पताल में भर्ती कराया गया.

वहीं, एक साथ इतने मरीजों के अस्पताल में भर्ती होने पर अस्पताल में अफरा-तफरी का माहौल हो गया. उधर घटना की गंभीरता को देखते हुए चिकित्सालय में इमरजेंसी ड्यूटी पर ऐलान किया गया और पूरा स्टाफ तैनात किया गया.

सूचना मिलते ही पुलिस प्रशासन अधिकारी मौके भी पहुंचे और हालात का जायजा लिया. कॉलोनी में जिसने भी शादी से बचा हुआ गाजर हलवा और मिठाई खाई वह बीमार होता गया. एक के बाद एक कॉलोनी के लोगों का अस्पताल पहुंचने का सिलसिला शुरू हो गया. बड़ी संख्या में कॉलोनी के लोग भी अस्पताल में जमा हो गए. इससे अस्पताल में अफरा-तफरी का माहौल हो गया.

साथ ही, बीमार लोगों के साथ परिजन भी अस्पताल में आ गए और अस्पताल में पैर रखने को जगह नहीं थी. देर शाम 6:30 बजे से अंतिम रात 11:45 बजे तक मरीज अस्पताल में आते रहे. सूचना मिलने पर एसडीएम बिजेंद्र सिंह मीणा, कोतवाली थाना प्रभारी हरजीलाल यादव सहित अन्य अधिकारी अस्पताल में पहुंचे और स्थिति का जायजा लिया. पीएमओ डॉ. दिनेश गुप्ता ने बताया कि फूड प्वाइजनिंग की घटना की जानकारी मिलते ही पूरे स्टाफ को इमरजेंसी कॉल कर टूटी पर बुलाया गया है. अब तक 44 अस्पताल में भर्ती हो चुके हैं जिनका उपचार चल रहा है. सभी मरीजों की हालत खतरे से बाहर हैं.