कोटे से कम गेहूं की आपूर्ति कर रहा केंद्र, लाभांवितों को नहीं पहुंच रहा अनाज: रमेश मीणा

खाद्य मंत्री रमेश मीणा का कहना है कि, लॉकडाउन अवधि में प्रत्येक व्यक्ति तक खाद्यान्न पहुंचे, इसके लिए राजस्थान की अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) सरकार गंभीरता से काम कर रही है.

कोटे से कम गेहूं की आपूर्ति कर रहा केंद्र, लाभांवितों को नहीं पहुंच रहा अनाज: रमेश मीणा
रमेश मीणा ने कहा कि प्रवासी मजदूरों को भी अनाज की कमी नहीं होने दी जाएगी.

जयपुर: कोरोना वायरस (Coronavirus) के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए केंद्र सरकार ने 17 मई तक पूरे देश में लॉकडाउन (Lockdown) लागू किया है. इस लॉकडाउन के दौरान सबसे बड़ी चुनौती खाद्य आपूर्ति की भी है. स्वास्थ्य सेवाओं के साथ-साथ प्रत्येक व्यक्ति तक भोजन पहुंचाना भी सरकार के लिए कड़ी परीक्षा बना हुआ है.

खाद्य मंत्री रमेश मीणा का कहना है कि, लॉकडाउन अवधि में प्रत्येक व्यक्ति तक खाद्यान्न पहुंचे, इसके लिए राजस्थान की अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) सरकार गंभीरता से काम कर रही है. मंत्री रमेश मीणा ने कहा कि, अन्य राज्यों से आने वाले प्रवासी मजदूरों को भी अनाज की कमी नहीं होने दी जाएगी.

उन्होंने केंद्र सरकार पर तय कोटे से कम गेहूं आपूर्ति का आरोप लगाते हुए कहा कि, इससे नामांकित लाभाविंतों तक भी अनाज नहीं पहुंच रहा है. मीणा ने कहा कि, ऐसे में राज्य सरकार ने 78 करोड़ रुपए की राशि मंजूर की है, जिससे एनएफएसए (NFSA) पंजीकृत और गैर पंजीकृतों को अनाज उपलब्ध कराया जाएगा.

मंत्री ने केंद्र सरकार से मांग करते हुए कहा कि, अन्य राज्यों में फंसे राजस्थानी मजदूरों को भी गेहूं उपलब्ध कराया जाएगा. बड़ी संख्या में ऐसी शिकायतें आ रही हैं, इस पर प्रभावी कदम उठाने के लिए मुख्यमंत्री से भी मांग की गई है. खाद्य मंत्री ने कहा कि, इंटर स्टेट और इंटर डिस्ट्रिक्ट पोर्टबिलिटी भी राजस्थानी लोगों की सुविधा के लिए शुरू की गई हैं.