CAA के विरोध में 28 दिसंबर को जयपुर में कांग्रेस की तरफ से किया जाएगा प्रदर्शन

नागरिकता कानून के विरोध में 28 दिसंबर को जयपुर में कांग्रेस की तरफ से प्रदर्शन किया जाएगा.  

CAA के विरोध में 28 दिसंबर को जयपुर में कांग्रेस की तरफ से किया जाएगा प्रदर्शन
सीएम अशोक गहलोत और उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट

जयपुर: नागरिकता कानून(Citizenship Amendment Act) के विरोध में 28 दिसंबर को जयपुर में कांग्रेस की तरफ से प्रदर्शन किया जाएगा. प्रदर्शन की तैयारियों को लेकर सीएमआर में बैठक का आयोजन किया गया. बैठक में प्रदर्शन को लेकर रणनीति बनाई है.

बैठक में सीएम अशोक गहलोत(CM Ashok Gehlot) और उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट और कई मत्री भी मौजूद रहे. नागरिकता कानून(Citizenship Amendment Act) पर पीसीसी चीफ सचिन पायलट ने कहा कि ये मुद्दा किसी समुदाय संगठन का मामला नहीं है बल्कि फैसला जन भावना के खिलाफ है और यही वजह है कि जनता का गुस्सा इस फैसले के खिलाफ है. सरकार को जनता की भावना को समझाना चाहिए, लेकिन जिस तरीके से सरकार दमनकारी नीति अपना रही है वह तरीका ठीक नहीं है.

गौरतलब है कि राजस्थान में NRC और CAA के विरोध में कई जगह धरना-प्रदर्शन देखने को मिले हैं. श्रीगंगानगर में कम्युनिस्ट पार्टी मार्क्सवादी के कार्यकर्ताओं ने कलेक्ट्रेट के सामने धरना-प्रदर्शन किया. कम्युनिस्ट पार्टी के कार्यकर्ताओं ने कहा कि नागरिकता संशोधन बिल भारतीय संविधान की मूल भावना के खिलाफ है और साथ ही न केवल अनुच्छेद 14 बल्कि अनुच्छेद 15 और 21 का भी उल्लंघन हैं. 

कोटा में भी वामपंथी संगठन ने कलेक्ट्री पर धरना दिया और केंद्र सरकार के खिलाफ प्रदर्शन किया. डूंगरपुर में नागरिकता संशोधन एक्ट का सीपीएम ने विरोध किया..सीपीएम ने एक्ट के विरोध में कलेक्ट्रेट के बाहर धरना देते हुए प्रदर्शन किया.
 

जामा मस्जिद से जंतर मंतर तक मार्च
नागरिकता संशोधन कानून(Citizenship Amendment Act)  के विरोध में आज दिल्ली में जामा मस्जिद से जंतर मंतर तक मार्च निकाला जाएगा. जिसे भीम आर्मी के चंद्रशेखर लीड करेंगे. 1.30 बजे जामा मस्जिद से मार्च शुरू होगा जोकि जंतर मंतर तक जाएगा. खुफिया एजेंसियों की रिपोर्ट के मुताबिक आज असामाजिक तत्व ज्यादा उपद्रव फैलाने की कोशिश कर सकते हैं. लोगों को ये समझाया जा रहा है कि कानून की आड़ में केंद्र सरकार एक वर्ग विशेष के साथ अन्याय कर रही है. ऐसे में आज भी देश के कई हिस्सों में मोबाइल और इंटरनेट सेवा बाधित रह सकती है.

ISI कर रहा फंडिंग 
खुफिया रिपोर्टों के मुताबिक इसमें हिस्सा लेने वाले कुछ असामाजिक तत्वों का प्रदर्शन या कानून से कोई लेना देना नहीं है बल्कि इसके पीछे अपना हित साधना है. वहीं नागरिकता संशोधन कानून की आड़ में देशभर में हो आगजनी के बीच पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी ISI देश में बड़े पैमाने पर उपद्रव करवाने की साजिश रच रही है. सूत्रों के मुताबिक देशभर के संवेदनशील शहरों में पथराव करने और माहौल खराब करने के लिए ISI फंडिंग मुहैया करवा रही है.