close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान: एक साल में गटक गए 583 करोड़ का मुफ्त पानी, रिकवरी हुई सिर्फ 34 करोड़

अब बकायदारों से रिकवरी करने में जलदाय विभाग के अधिकारियों के पसीने छूट रहे है.

राजस्थान: एक साल में गटक गए 583 करोड़ का मुफ्त पानी, रिकवरी हुई सिर्फ 34 करोड़
विभाग वसूली के लिए अभियान चला रही है. (प्रतीकात्मक फोटो)

जयपुर: राजस्थान में जलदाय विभाग के अधिकारियों के गले से पानी नीचे नहीं उतर पा रहा. प्रदेश में लाखों उपभोक्ताओं ने एक साल के अंदर अरबों रूपए का मुफ्त का पानी पी लिया. अब बकायदारों से रिकवरी करने में जलदाय विभाग के अधिकारियों के पसीने छूट रहे है.

आधिकारिक सूत्रों के अनुसार, बीते एक साल में राजस्थान की जनता ने 583 करोड रूपए का पानी मुफ्त में पी लिया. इस दौरान उपभोक्ताओं ने अरबों रूपए के पानी का बिल जमा नहीं करवाया. 

कोटा सबसे आगे, अलवर सबसे पीछे

प्रदेश में सबसे ज्यादा मुफ्त का पानी पीने वाला जिला कोटा है. कोटा में उपभोक्ताओं ने अब तक 162 करोड 77 लाख रूपए का भूगतान नहीं किया है. जबकि सबसे कम अलवर में 12 करोड 26 लाख रूपए के पानी का बिल जमा नहीं करवाया. वहीं राजधानी जयपुर भी मुफ्त का पानी पीने में पीछे नहीं रहा .जयपुर में एक साल में 139 करोड से ज्यादा का पानी का बिल बकाया है. इसके अलावा भरतपुर, बीकानेर, उदयपुर, जोधपुर, चुरू के रहने वाले लोगों ने भी मुफ्त का पानी तो खूब पी लिया, लेकिन पानी का बिल नहीं चुकाया है. 


पानी का मीटर

रिकवरी हुई मात्र 34 करोड़

बताया जा रहा है कि एक साल के अंदर सिर्फ 34 करोड़ रूपए उपभोक्ताओं से रिकवरी हो पाई है. जोधपुर,अजमेर में सबसे ज्यादा 5-5करोड़ की रिकवरी हो पाई है.

जलदाय विभाग के चीफ इंजीनियर आईडी खान ने बताया, "वित्तीय वर्ष के अंत में जलदाय विभाग तेजी से कार्रवाई कर रहा है. 50 हजार रूपए उपर जिसकी भी उपभोक्ता का बिल है, उनके कनेक्शन लगातार काटे जा रहे है. विभाग ऐसे उपभोक्ताओं पर कार्रवाई कर रहा है. हालांकि हजारों उपभोक्ता ऐसे भी है, जिनका 20 से 30 हजार रूपए का बिल बकाया है."

उन्होंने यह भी कहा, "लगातार लापरवाह उपभोक्ताओं के घर नोटिस भेजे गए, लेकिन इसके बावजूद भी उपभोक्ताओं ने बिल जमा नहीं करवाया. जिस कारण मजबूरन हमें पानी का कनेक्शन काटना पड़ रहा है. विभाग की कार्रवाई आगे बढ़ रही है, जिसके कारण कई उपभोक्ता खुद चलकर आगे आ रहे है और पानी का बिल जमा करवा रहे है. "

ये जिले पी गए अरबों रूपए का मुफ्त में पानी

क्रमांक         जिला         बकाया राशि  लाख में.   वसूली हुई
1           अजमेर            4480.91           571.68
2.          जयपुर 1          2181.51            120.70
3.          भरतपुर            856.69            33.96
4.          बीकानेर            8475.88           295.14
5.          उदयपुर            2943.78           378.42
6.          जोधपुर 1          6636.86           582.97
7.          कोटा             16277.69           344.68
8.          जयपुर 2          11808.47           730.15
9.          जोधपुर 2          2163.61            154.79
10.         अलवर            1269.11            101.91
11.         चुरू              1269.49            85.40