close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

डूंगरपुर के समाजसेवी संस्था ने उठाया लोगों को पानी मुहैया कराने का बीड़ा

पानी की परेशानी को लेकर जब जिला प्रशासन व जलदाय विभाग की ओर से सुनवाई नहीं हुई तो एक समाजसेवी ने परेशान लोगों को राहत देने का बीड़ा उठाया.

डूंगरपुर के समाजसेवी संस्था ने उठाया लोगों को पानी मुहैया कराने का बीड़ा
जन सेवा के लिए मेहता हर उस क्षेत्र में पानी सप्लाई करवाते हैं, जहां पानी पानी की किल्लत है

अखिलेश शर्मा/डूंगरपुर: भीषण गर्मी के चलते प्रदेश का आदिवासी बहुल डूंगरपुर जिला भी त्रस्त है. यहां गांवों के साथ शहरों में भी लोग पानी की समस्या से परेशान है. इस परेशानी को लेकर जब जिला प्रशासन व जलदाय विभाग की ओर से सुनवाई नहीं हुई तो एक समाजसेवी ने बेचैन लोगों को राहत देने का बीड़ा उठाया है. खबरों के मुताबिक समाजसेवी द्वारा अब हर दिन दो से चार टैंकर पानी मंगवाने और जरूरतमंद लोगों को पानी की सप्लाई का सिलसिला जारी है.

डूंगरपुर जिले में जब पानी की किल्लत की शिकायत किसी ने नहीं सुनी, जब अधिकारियों के दरबाजे बंद हो गए, तो फिर जनता को पानी मुहैया कराने समाजसेवी हरीश मेहता आए. मई महीने की शुरूआत से इस काम में जुटे मेहता रोजाना 2 से 4 पानी टैंकर आवश्यकता वाले क्षेत्रो में सप्लाई करा रहे है. अब तक 100 टैंकर पानी की सप्लाई करवा चुके मेहता का निजी बोरवेल ना होने की वजह से उन्हे मीठा पानी 500 रूपए प्रति टैंकर खरीदना पड़ रहा है.

जन सेवा के लिए मेहता हर उस क्षेत्र में पानी सप्लाई करवाते हैं, जहां पानी की किल्लत है. एलआईसी के एजेंट मेहता बताते है कि डूंगरपुर शहर समेत आसपास के गांवों में आते-जाते कई बार गरीब महिलाओं को पानी के लिए घंटो इंतजार करते देखा, जिसके बाद वह पानी की किल्लत वाले क्षेत्रों पानी सप्लाई करने लगे. 2014 से हरीश मेहता लोगों की प्यास बुझाकर सबसे पुण्य का काम कर रहे हैं.

मेहता रोजाना शहर के पार्षदों के साथ आस-पास के गांवों में लोगों से बात कर जरूरतमंद इलाकों में पानी टैंकर लेकर पहुंच जाते हैं. पानी लेने के चक्कर में लोग आपस में उलझे नहीं और पानी का अपव्यय नहीं हो इसीलिए वे पानी के टैंकर के साथ-साथ रहते है और लोगों की कतार लगवाकर पानी की सप्लाई करवाते हैं. पानी की सप्लाई कर रहे मेहता इन क्षेत्रवासियों के लिए जलदेवता से कम नहीं है. लोग उन्हें दुआए देते नहीं थकते.

इतना ही नहीं जल सेवा के साथ-साथ समाज सेवी और एलआईसी एजेंट हरीश मेहता ने शहर में कई जगह प्याऊ भी लगाया है. साथ ही बेजुबान परिंदों के लिए और मवेशियों के लिए भी सीमेंट की टंकियां लगवाई हैं. 

कहते हैं राम रूठता है तो राज सहारा देता है, परंतु जब राम और राज दोनों की रूठे तो एक अदद हरीश मेहता जैसा दयालु इंसान ही लोगों के काम आते हैं. प्यासे लोगों को पानी पिलाने से कई यज्ञों का पुण्य प्राप्त होता है. वहीं भीषण गर्मी में लोगों की प्यास बुझान को भगीरथ कार्य कर रहे हरिश मेहता जैसे लोगों की हर गांव और शहर को जरूरत है.