close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

कोटा थर्मल पावर प्लांट पर लगातार 12वे दिन भी जारी है इंजीनियरों का विरोध प्रदर्श

कार्य बहिष्कार के लगातार बाहरवें दिन के बाद भी विधुत उत्पादन निगम प्रशासन एवं कार्मिक वार्ता के लिए आगे नहीं आया. 

कोटा थर्मल पावर प्लांट पर लगातार 12वे दिन भी जारी है इंजीनियरों का विरोध प्रदर्श

बारां: छबड़ा में थर्मल पावर प्लांट में इंजीनियरों का विरोध प्रदर्शन थमने का नाम नहीं ले रहा है. वहीं 30 जूव को थर्मल पावर प्लांट में पांच और छठी 660 मेगावॉट की इकाई के लोकार्पण के लिए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और ऊर्जा मंत्री बीडी कल्ला के कार्यक्रम का भी विरोध किया जा रहा है. 

बुधवार को खान मंत्री प्रमोद जैन भाया और विधायक पानाचंद मेघवाल को सीएम के दौरे का जायजा लेने जाना था लेकिन इंजीनियरों के विरोध प्रदर्शन के कारण वो भी यहां दौरे के लिए नहीं जा सके. छबड़ा थर्मल में सभी अभियंता द्वारा कनिष्ठ अभियंता संवर्ग की 4800- ग्रेड -पे और कार्मिक विभाग द्वारा थर्मल के निजिकरण किए जाने की अधूरी प्रक्रिया मे इलेक्ट्रिकल- मैकेनिकल विंग के 135 इंजिनियर-अधिकारी पदो में की गई कटौती की पुनर्बहाली को लेकर इंजीनियर पिछलें 12 दिन से एक घंटे कार्य बहिष्कार कर धरना प्रदर्शन कर रहें है.

कार्य बहिष्कार के लगातार बाहरवें दिन के बाद भी विधुत उत्पादन निगम प्रशासन एवं कार्मिक वार्ता के लिए आगे नहीं आया. उत्पादन निगम कार्मिक विभाग की हठधर्मिता के कारण इंजिनियर अशोक गहलोत के लोकार्पण समारोह का विरोध करने तक उतर आए हैं. 

अब इसी क्रम में एसोसिएशन के आह्वान पर सभी इंजीनियर 29 एवं 30 जून को सामूहिक अवकाश लेकर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की 30 जून को प्रस्तावित छबड़ा सुपर क्रिटिकल थर्मल पावर प्लाटं की दोनो ईकाइयों के लोकार्पण समारोह का बहिष्कार कर थर्मल गेट के बाहर धरना-प्रदर्शन करके मुख्यमंत्री से अपनी मांगो के समाधान हेतु ज्ञापन देंगे. इस दौरान विधुत उत्पादन एवं लोकार्पण समारोह मे कोई व्यवधान पैदा होता है तो इसकी सम्पूर्ण जिम्मेदारी विधुत उत्पादन निगम प्रशासन एवं कार्मिक विभाग की होगी यह चेतावनी भी इंजीनियरों ने दी है.