दिव्यांग अधिवक्ताओं की जगी उम्मीद, नोटरी पब्लिक की नियुक्ति में मिल सकता है आरक्षण

 राजस्थान (Rajasthan News) में एक बार फिर से दिव्यांग अधिवक्ताओं (Divyang Advocates) की उम्मीद है जगने लगी है. 

दिव्यांग अधिवक्ताओं की जगी उम्मीद, नोटरी पब्लिक की नियुक्ति में मिल सकता है आरक्षण
फाइल फोटो

जयपुर: राजस्थान (Rajasthan News) में एक बार फिर से दिव्यांग अधिवक्ताओं (Divyang Advocates) की उम्मीद है जगने लगी है. विशेष योग्यजन न्यायालय ने नोटरी पब्लिक के पद पर नियुक्ति के लिए विधि विभाग के प्रमुख सचिव (Principal Secretary) को खत लिखकर कार्रवाई के निर्देश दिए हैं. इससे पहले भी राजस्थान में कई बार दिव्यांग जनों को आरक्षण की मांग उठी है. हालांकि इस संबंध में केंद्र सरकार (Central Government) को नियमों में संशोधन करना है. 

विधि प्रमुख सचिव को लिखा गया खत-
नोटरी पब्लिक के पद पर अधिवक्ताओं की नियुक्ति विधि विभाग के अंतगर्त की जाती है. इसमें दिव्यांग अधिवक्ताओं के आरक्षण को कोई प्रावधान नहीं है.ऐसी परिस्थिति में कोर्ट ने दिव्यांग अधिवक्ताओं को नोटरी पब्लिक के पदों पर नियुक्ति संबंधी प्रावधान को केंद्र सरकार को भेजने के निर्देश दिए थे. क्योंकि दिव्यांगजन अधिकार अधिनियम में इस तरह का प्रावधान नहीं है. अब केंद्र सरकार के नियमों में संशोधन के बाद दिव्यांग अधिवक्ताओं को नोटरी पब्लिक के पदों पर आरक्षण का लाभ मिल सकेगा. विशेष योग्यजन न्यायालय ने इस संबंध में कार्रवाई के लिए विधि विभाग को पत्र लिखकर भी कहा है कि इस संबंध में कोई निर्णय लिया जाए. इस संबंध में परिवादी हेमंत भाई गोयल ने विशेष योग्यजन न्यायालय में याचिका दायर की थी.

यह है नोटरी अधिनियम के नियम-
नोटरी अधिनियम 1952 केंद्र सरकार का अधिनियम है और नोटेरी नियम 1956 भी केंद्र सरकार द्धारा जारी नियम है. इसका संशोधन केंद्र सरकार द्धारा ही किया जा सकता है. हालांकि नोटेरी के पद पर दिव्यांग एससी, एसटी, ओबीसी और दिव्यांग अधिवक्ताओं को 3 साल की अनुभव में छूट प्रदान की गई है, लेकिन दिव्यांग अधिवक्ताओं के लिए आरक्षण का कोई भी प्रावधान नहीं है.

क्या विधि विभाग की लापरवाही-
महीनों से फाइल अटकने से अब दिव्यांगों की उम्मीदे टूटने लगी है. परिवादी हेमंत गोयल का कहना है कि कोर्ट ने माना है कि दिव्यांग अधिवक्ताओं को आरक्षण का लाभ मिलना चाहिए, लेकिन विधि विभाग की लापरवाही के कारण ऐसा नहीं हो पा रहा है.  

ये भी पढ़ें: Rajasthan Weather Update: राजस्थान को सर्दी-कोहरे से अभी नहीं मिलेगी राहत