उदयपुर: कोरोना नियमों को लेकर प्रशासन सख्त,अवहेलना पर लगाया 30 हजार का जुर्माना

प्रबंधक किशोर झम्बानी पर शादी में 100 से अधिक मेहमान बुलाने पर 25 हजार रुपए और बिना मास्क उपयोग पर 5 हजार रुपए जुर्माना लगाकर वसूल किया गया.

उदयपुर: कोरोना नियमों को लेकर प्रशासन सख्त,अवहेलना पर लगाया 30 हजार का जुर्माना
कोरोना नियमों की अवहेलना पर लगा 30 हजार का जुर्माना. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

अविनाश जगनावत/उदयपुर: उदयपुर में कोरोना प्रोटोकॉल का तोड़ कर विवाह समारोह का आयोजन करना जैन परिवार पर भारी पड़ गया. मामले में जिला प्रशासन ने कार्रवाई करते हुए आयोजक और सीजंस पार्क के प्रबंधक पर 30 हजार का जुर्माना लगा दिया.

दरअसल, राजस्थान सरकार के निर्देशानुसार शादी समारोहों के आयोजनों में कोरोना प्रोटोकॉल की अनुपालना सुनिश्चित कराने के लिए जिला कलक्टर चेतन देवड़ा की ओर से नियुक्त किए गए इंसीडेंट कमांडर्स की ओर से जिले भर में लगातार निरीक्षण किया जा रहा है. इसी क्रम में बुधवार को गिर्वा तहसीलदार और इंसीडेंट कमाडर युवराज कौशिक के दल द्वारा किए गए निरीक्षण दौरान गोवर्धनविलास क्षेत्र में सीजंस पार्क मैरिज गार्डन में आयोजित हो रहे शादी समारोह का निरिक्षण करने पहुंचे.

यहां उन्होंने कोरोना प्रोटोकॉल की अवहेलना होते देखी. इस पर कार्रवाई कर जुर्माना लगाया गया है. कलक्टर देवडा ने बताया कि गोवर्धन विलास स्थित लेक गार्डन सोसाइटी में आयोजक बसंत जैन तथा सीजंस पार्क के प्रबंधक किशोर झम्बानी पर शादी में 100 से अधिक मेहमान बुलाने पर 25 हजार रुपए और बिना मास्क उपयोग पर 5 हजार रुपए जुर्माना लगाकर वसूल किया गया.

इसी प्रकार दोनों को शादी समारोह में कोरोना प्रोटोकॉल के उल्लंघन करने पर नोटिस जारी किया गया है. साथ ही दोनों को निर्देशित किया गया कि 27 नवंबर को उपस्थित होकर स्पष्टीकरण दें. नोटिस में कहा गया है कि स्पष्टीकरण नहीं देने की स्थिति में उनके विरूद्ध भारतीय दंड संहिता की धारा 188, 269 व 270 तथा आपदा प्रबंधन अधिनियम की धारा 51 व 52 के तहत कार्रवाई की जाएगी एवं मेरिज गार्डन सील करने की कार्रवाई की जाएगी.

बता दें कि उदयपुर जिले में विवाह समारोह में कोरोना प्रोटोकॉल तोड़ने को लेकर जिला प्रशासन की यह पहली कार्रवाई है. ऐसे में आयोजकों और वाटिका संचालकों को कोविड गाइडलाइन का पालन को लेकर गंभीरता दिखानी होगी.