Pilot सहित अन्य विधायकों को स्पीकर के नोटिस मामले में 14 दिसंबर तक सुनवाई टली

मोहनलाल नामा की ओर से प्रार्थना पत्र में कहा है कि यह राजनैतिक मामला था और दोनों की पक्षों के बीच अब विवाद समाप्त हो गया है. ऐसे में लंबित याचिका को खारिज किया जाए. 

Pilot सहित अन्य विधायकों को स्पीकर के नोटिस मामले में 14 दिसंबर तक सुनवाई टली
राजस्थान के पूर्व उपमुख्यमंत्री हैं सचिन पायलट. (फाइल फोटो)

महेश पारिक/जयपुर: राजस्थान हाईकोर्ट (Rajasthan High Court) ने  पूर्व डिप्टी सीएम सचिन पायलट (Sachin Pilot) सहित अन्य विधायकों को विधानसभा स्पीकर की ओर से दिए नोटिस के मामले में सुनवाई 14 दिसंबर तक टाल दी है. मुख्य न्यायाधीश इंद्रजीत महांति और न्यायाधीश सतीश शर्मा ने यह आदेश पीआर मीणा की याचिका में मोहन लाल नामा के प्रार्थना पत्र पर दिए. 

मामलो को आज (सोमवार) पहले न्यायाधीश सबीना की खंडपीठ के समक्ष सूचीबद्ध किया गया था, लेकिन वादसूची के साथ यह नोट आ गया कि जस्टिस सबीना के समक्ष सूचीबद्ध कुछ अन्य प्रकरणों के साथ इस प्रकरण को मुख्य न्यायाधीश की खंडपीठ सुनेगी. वहीं, बाद में मुख्य न्यायाधीश की खंडपीठ ने मामले की सुनवाई टाल दी.

मोहनलाल नामा की ओर से प्रार्थना पत्र में कहा है कि यह राजनैतिक मामला था और दोनों की पक्षों के बीच अब विवाद समाप्त हो गया है. ऐसे में लंबित याचिका को खारिज किया जाए. प्रार्थना पत्र का जवाब देते हुए महाधिवक्ता (Advocate General) ने पूर्व में अदालत को बताया था कि खंडपीठ ने इस मामले को संविधान की अनुसूची दस सहित दो कानूनी बिंदू तय करने के विचारार्थ रखा हुआ है. ऐसे में जब तक इन कानूनी बिंदुओं पर फैसला नहीं होता, तब तक याचिका का निस्तारण नहीं किया जा सकता. दूसरी ओर स्पीकर के वकील प्रतीक कासलीवाल का कहना है कि उन्हें इस प्रार्थना पत्र की कॉपी नहीं मिली है. 

ये भी पढ़ें-राजस्थान: CM Gehlot ने अपने बयान के जरिए एक तीर से साधा 2 निशाना! जानिए कैसे...