कोटा: चंबल में पानी की आवक से प्रभावित परिवारों को मिली 17.25 करोड़ रुपये की सहायता राशि

मंत्री शांति धारीवाल ने 25 परिवारों को क्षतिग्रस्त आवास की सहायता राशि के चेक प्रदान किए. उन्होंने प्रभावित परविारों से रूबरू होते हुए कहा कि उन्हें हर संभव पूरी मदद प्रदान की जाएगी. 

कोटा: चंबल में पानी की आवक से प्रभावित परिवारों को मिली 17.25 करोड़ रुपये की सहायता राशि
प्रभावित परिवार का नाम सर्वे सूची में छूट गया तो उसके लिए भी सरकार हमेशा मदद के लिए तैयार है.

कोटा: चंबल नदी में पानी की अधिक आवक से अपना आशियाना उजड़ जाने से प्रभावित हजारों परिवारों के लिए सोमवार का दिन नया सवेरा लेकर आया.

स्वायत्त शासन मंत्री शांति धारीवाल ने राज्य सरकार द्वारा देय सहायता राशि के प्रतिकात्मक चेक प्रभावित परिवारों के मुखिया को प्रदान किए. चंबल के पानी से प्रभावित 4 हजार 489 परिवारों को 17 करोड़ 25 लाख से अधिक राशि सीधे बैंक खातों में पहुंची.

कलक्ट्रेट स्थित टैगोर सभागार में आयोजित चेक वितरण कार्यक्रम में स्वायत्त शासन मंत्री ने कहा कि सरकार आम नागरिकों के दुखःदर्द की घड़ी में हमेशा साथ खड़ी है. प्रदेश में पहली बार बाढ़ प्रभावित परिवारों को बिना केंद्र की सहायता के इतनी बड़ी सहायता राशि त्वरित रूप से प्रदान कि जा रही है. उन्होंने कहा कि 1960 में चंबल नदी पर चारों बांधों का निर्माण किया गया था. जबसे लेकर इतनी मात्रा में पानी की निकासी नहीं की गई थी. पहली बार इतनी बड़ी संख्या में नागरिक प्रभावित हुए लेकिन सरकार ने जिला प्रशासन के माध्यम से त्वरित सहायता उपलब्ध करवाकर आम जन को राहत एवं पुर्नवास का कार्य किया गया. 

उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा प्रभावित परिवारों को सहायता उपलब्ध कराने के लिए पूरी पारदर्शिता के साथ कार्य किया गया. तीन बार टीमों का गठन कर प्रत्येक प्रभावित परिवार तक पहुंचने के प्रयास किए गए. उन्होंने कहा कि यदि किसी प्रभावित परिवार का नाम सर्वे सूची में छूट गया तो उसके लिए भी सरकार हमेशा मदद के लिए तैयार है. 

हर संभव पूरी मदद प्रदान की जाएगी
मंत्री शांति धारीवाल ने प्रतीकात्मक रूप से 25 परिवारों को क्षतिग्रस्त आवास की सहायता राशि के चेक प्रदान किए. उन्होंने प्रभावित परविारों से रूबरू होते हुए कहा कि उन्हें हर संभव पूरी मदद प्रदान की जाएगी. सरकार द्वारा देय सहायता राशि का वे सदुपयोग कर क्षतिग्रस्त आवासों की मरम्मत करवाकर अपना नया जीवन शुरू करें. 

क्या बोले जिला कलक्टर ओम कसेरा
जिला कलक्टर ओम कसेरा ने कहा कि सभी प्रभावित परिवारों को त्वरित सहायता देकर प्रशासन हमेशा सहयोग के लिए तैयार रहेगा. उन्होंने कहा कि पीड़ित परिवारों को मूलभूत सुविधाओं के लिए पूर्व में सहायता उपलब्ध कराई जा चुकी है. अब आवास मरम्मत के लिए सीधे बैंक खातों में राशि उपलब्ध कराई जा रही है. 

इस अवसर पर नगर निगम के प्रशासक वासुदेव मालावत, अतिरिक्त कलक्टर सीलिंग सत्यनारायण अमेठा यूआईटी के पूर्व अध्यक्ष रविन्द्र त्यागी, जफर मोहम्मद, राजेन्द्र सांखला सहित बड़ी संख्या में प्रभावित परिवार उपस्थित रहे.

4 हजार 489 परिवार हुए लाभान्वित
स्वायत्त शासन मंत्री ने 25 परिवारों को प्रतिकात्मक रूप से चेक प्रदान किए. चंबल में पानी की अधिक आवक से प्रभावित परिवारों के सर्वे में 4 हजार 837 परिवारों का सर्वे किया गया, जिसमें 1456 परिवारों के पक्के मकान पूर्ण क्षतिग्रस्त पाये गये. 222 परिवारों के कच्चे मकान पूर्ण क्षतिग्रस्त पाए गए. 4 परिवारों के अत्यधिक क्षतिग्रस्त कच्चे मकान पाए गए. 33155 परिवारों के आंशिक क्षतिग्रसत कच्चे, पक्के मकान पाए गए. जिला प्रशासन द्वारा किए गए सर्वे के बाद 4489 परिवार भुगतान योग्य पाए गए, जिन्हें 17 करोड़ 25 लाख 46 हजार 620 रुपये का भुगतान सीधे बैंक खातों में किया गया.