close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

जयपुर में खास तरीके से मनेगा स्वतंत्रता दिवस, झंडा फहराने से पहले बांधी जाएगी राखी

महिला अधिकारिता विभाग के उप निदेशक तथा बेटी बचाओ बेटी पढाओ अभियान के नोडल अधिकारी विप्लव न्यौला ने बताया कि स्वतंत्रता दिवस पर झुंझुनूं में होने वाले जिला स्तरीय कार्यक्रम में राखियों को बांधा जाएगा. 

जयपुर में खास तरीके से मनेगा स्वतंत्रता दिवस, झंडा फहराने से पहले बांधी जाएगी राखी
स्वतंत्रता दिवस और रक्षा बंधन साथ-साथ मनाए जाएंगे.

संदीप केडिया/झुंझुनूं: इस बार स्वतंत्रता दिवस और रक्षा बंधन पर्व एक साथ आ रहे है. इसे खास बनाने के लिए झुंझुनूं में विशेष तैयारी की गई है. बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान में लगातार तीन सालों से देश के सर्वश्रेष्ठ जिलों में शामिल झुंझुनूं में रक्षा बंधन के दिन झंडा फहराने से पहले सभी की कलाई में राखियां होगी. इन राखियों में खास बात यह है कि इनमें ना केवल तिरंगा होगा बल्कि बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ का लोगों भी हर कलाई पर सजेगा.

झुंझुनूं में ने बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान में हमेशा नवाचार किए है. ये नवाचार ना केवल जिले और प्रदेश, बल्कि राष्ट्रीय स्तर पर भी सराहे गए है. इसी क्रम में अब एक और नवाचार होगा कल. जब स्वतंत्रता दिवस और रक्षा बंधन साथ-साथ मनाए जाएंगे. जी, हां झुंझुनूं में एक परिवार की महिलाओं को जिम्मा दिया गया है एक हजार राखियां बनाने का. इन राखियों में खास बात तो है ही, साथ ही कुछ खास मकसद भी है. राखियों में तिरंगे और बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान, दोनों का संदेश दिया गया है. जो सजेगा हर कलाई पर.

इन राखियों को बनाने का काम हाल ही में फैशन डिजाइनिंग का कोर्स करके आई झुंझुनूं शहर की प्रियंका जांगिड़ को दिया गया है. प्रियंका का सहयोग इस कार्य में उनकी बुजूर्ग सास रेणू से लेकर भाभी अर्चना तक और उसकी नन्हीं भतीजी लक्षिता जांगिड़ भी कर रही है. करीब 15 दिनों से चल रहे इस कार्य में पड़ोस की महिलाओं ने भी सहयोग किया और प्रियंका जांगिड़ के निर्देशन में एक से बढ़कर एक अलग-अलग डिजाइनर राखियां बनाई है. लेकिन इन सभी में खास बात यह है कि सभी में तिरंगा और बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ का संदेश दिया गया है. प्रियंका बताती है कि जब उन्हें ऐसा आइडिया आया तो महिला अधिकारिता विभाग के उप निदेशक विप्लव न्यौला ने उन्हें प्रोत्साहित किया और अब उन्होंने एक हजार राखियां बनाई है. 

इधर, महिला अधिकारिता विभाग के उप निदेशक तथा बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान के नोडल अधिकारी विप्लव न्यौला ने बताया कि स्वतंत्रता दिवस पर झुंझुनूं में होने वाले जिला स्तरीय कार्यक्रम में इन राखियों को बांधा जाएगा. उन्होंने बताया कि इसके लिए अलग-अलग महिलाओं और युवतियों की टीमें बनाई गई है, जो कार्यक्रम में शामिल होने वाले अतिथियों से लेकर बच्चों तक, सभी को प्रवेश द्वार पर तिलक लगाएगी और राखी बांधकर उनसे रक्षा का वचन लेंगी. उन्होंने बताया कि इस तरह की राखियों का वितरण जिले में भी करवाया जा रहा है ताकि रक्षा बंधन के दिन ये अधिक से अधिक कलाई पर सजे.

प्रदेश ही नहीं, बल्कि देश में कल झुंझुनूं ऐसा पहला जिला होगा. जहां पर होने वाले स्वतंत्रता दिवस के कार्यक्रम में हर व्यक्ति के हाथ पर बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ का संदेश देने वाली राखियां होगी और हर व्यक्ति तिरंगा लहराने से पहले अपनी बहन को संकल्प देकर कार्यक्रम में शामिल होगा कि वह उसकी रक्षा करेगा.