राजस्थान में वायुसेना का शक्ति प्रदर्शन, आकाश मिसाइल से हवा में साधा अचूक निशाना

वायुसेना के अब तक के सबसे बड़े युद्धाभ्यास वायु शक्ति 2019 को देखने के लिए दुनिया भर के 27 से ज्यादा देश के प्रतिनिधि पोकरण पहुंचे

राजस्थान में वायुसेना का शक्ति प्रदर्शन, आकाश मिसाइल से हवा में साधा अचूक निशाना
भारतीय वायु सेना ने थार के रेगिस्तान में दुनिया को अपनी ताकत का अहसास कराया

जैसलमेर: प्रदेश की पोकरण फील्ड फायरिंग रेंज वायुसेना की ताकत व प्रहार से थर्रा उठी. चीन व पाकिस्तान को आंख दिखाते हुए दुनिया के 27 मित्र देशों के डेलीगेट्स के सामने विश्व में सर्वश्रेष्ठ वायु सेनाओं में से एक भारतीय वायुसेना ने राजस्थान के जैसलमेर जिले की पोकरण फील्ड फायरिंग रेन्ज में शक्ति प्रदर्शन किया. चांधन क्षेत्र में वायु शक्ति के 7वें संस्करण में शनिवार को प्रदर्शन कार्यक्रम में फायर पावर में अपनी मारक क्षमता का जोरदार प्रदर्शन करते हुए पूरी रेन्ज को भयंकर बम धमाकों से गूंजायमान कर दिया. भारतीय वायुसेना ने मेक अन इंडिया की तर्ज पर एक भव्य फायर पावर शो में तेजस, आकाश, आवाक्स, लाईट हेलिकोप्टर के साथ 137 विमानों ने अपने मारक क्षमता व काबिलियत का प्रदर्शन किया. 

भारतीय वायु सेना ने थार के रेगिस्तान में दुनिया को अपनी ताकत का अहसास करवाया. वायुसेना के अब तक के सबसे बड़े युद्धाभ्यास वायु शक्ति 2019 को देखने के लिए दुनिया भर के 27 से ज्यादा देश के प्रतिनिधि पोकरण पहुंचे. वायु शक्ति नामक वायुशक्ति कार्यक्रम में उड़ान क्षमताओं एवं घातक मारक क्षमता के प्रदर्शन की श्रृंखला में वायुसेना के जांबाजों ने भिन्न भिन्न छद्म लक्ष्यों तथा दुश्मन के नकली रेडार, सेना टुकड़ी, हथियारों का जखीरा, कंबाई, नकली पेट्रोल पंप के रॉकेट्स, लेजर नियंत्रित बम, मिसाईल एवं फ्रंटगन से अचूक निशानों से ध्वस्त कर रेन्ज में रोमांच पैदा कर दिया. 

राजस्थान का थार का रेगिस्तान भारतीय वायुसेना के प्रहार से थराया, भारतीय वायुसेना के 13 एयरक्राफ्ट दुश्मनो के ठिकानो को नेस्तानाबूद किया. डे, डस्क और नाइट तीनों में ही एयरफोर्स ने अपनी अचूक मारक क्षमता का जोरदार प्रदर्शन किया. इसमें मिग 21, बिसान, मिग 27, मिग 29, मिराज 2000, सुखोई एम.के.आई और जगुआर ने दुश्मनो के काल्पनिक ठिकानों को नेजर गाईडेड बम और मिसाईल से ध्वस्त किया. इस वायु शक्ति 2019 एक्सरसाईज में मेक-इन-इंडिया पर खासतौर से जोर रहा. इसमें पहली बार भारत में निर्मित हल्का लड़ाकू विमान तेजस ने अपने युद्ध कौशल का प्रदर्शन किया, साथ ही स्वदेशी तकनीक से बनी आकाश मिसाईल ने भी पहली बार 27 किलोमीटर के लक्ष्य को सफलतापूर्वक नष्ट किया.

इसमें भव्य पावर शो में भारतीय वायुसेना मेक इन इंडिया का प्रदर्शन करते हुए भारत में निर्मित लाईट कॉम्बेक्ट एयरक्राफ्ट, आकाश मिसाईल, अस्त्रा मिसाईल, एयर बांड अर्ली वार्निंग सिस्टम का पहली बार प्रदर्शन किया, हालांकि तेजस को अभी वायुसेना में शामिल नहीं किया है, लेकिन इसकी क्लीयरेंस की प्रक्रिया चल रही हैं. इस ऑपरेशन प्रदर्शन के क्लीयरेंस के बाद इसके वायुसेना में शामिल होने का मार्ग प्रशस्त हो सकेगा.