जयपुर: घूस मामले में ACB की कार्रवाई के बाद 3 पुलिसकर्मी फरार

इस मुकदमे में आरोपी की गिरफ्तारी एवं पैसे दिलवाने की एवज में झोटवाड़ा थाने वाले मुझसे 36 लाख रुपए का 10 प्रतिशत के रूप में 3.60 लाख रूपए की रिश्वत की राशि की मांग कर रहे हैं. 

जयपुर: घूस मामले में ACB की कार्रवाई के बाद 3 पुलिसकर्मी फरार
फाइल फोटो

जयपुर/ आशुतोष शर्मा: करप्शन के मामले में झोटवाड़ा थाने के SHO का रीडर हेड कांस्टेबल बत्तू खां, दलाल सुमंत और थाने के लिंक लोक अभियोजक चंद्रभान जोशी को 1 लाख रूपए की रिश्वत लेते गिरफ्तार कर लिया गया. जिसके बाद से ही रिश्वत के इस खेल से जुड़ी तीन कड़ियां फरार चल रही हैं.

इनमें झोटवाड़ा थाना ईलाके के एसीपी आस मोहम्मद, SHO प्रदीप चारण और सब इंस्पेक्टर रामलाल हैं. तीनों को एसीबी की तरफ से पूछताछ के लिए नोटिस भेजा गया है लेकिन गिरफ्तारी के भय से तीनों फरार हो चुके हैं. दरअसल, ये मामला परिवादी राजवीर के दो मामलों से जुड़ा हुआ है. ये दोनों ही मामले झोटवाड़ा थाने के थे. इन दो मामलों में से एक मामले में परिवादी खुद आरोपी था और गिरफ्तारी के बाद जेल में भी रहके आ चुका था और जमानत पर बाहर चल रहा था.

इस मामले में परिवादी की पत्नी को अभियुक्त ना बनाने और गिरफ्तार न करने की एवज में एसीपी स्तर पर 3 लाख रूपये इस एवज में ले चुके थे. वंही एक दूसरा जमीन का मामला भी सीआईडी सीबी में जांच के बाद झोटवाड़ा थाने भेजा गया था. जिसमें गिरफ्तारी होनी थी. इस मामले की शिकायत परिवादी की तरफ से की गई थी. 

इस मामले में घनश्याम विश्नोई नाम के व्यक्ति की गिरफ्तारी होनी थी और 36 लाख रूपये जमीन के एवज में परिवादी को मिलने वाले थे. इसी 36 लाख पर एसीपी झोटवाड़ा आस मोहम्मद की नजर थी. ACP झोटवाड़ा आस मोहम्मद ने SHO के रीडर को 36 लाख की राशि का 3 परसेंट यानि 3 लाख 60 हजार रिश्वत के तौर पर डील करने की जिम्मेदारी दी थी लेकिन सौदा ढाई लाख रूपये में तय हुआ. जब इस ढाई लाख की पहली किस्त एक लाख रूपये के तौर पर गुरुवार को दी जा रही थी, तभी एसीबी ने SHO के रीडर हेड कांस्टेबल बत्तू खां, दलाल सुमंत और चन्द्रभान को रिश्वत लेते रंगे हाथों दबोच लिया गया. 

ये है पूरा मामला
भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (एसीबी) जयपुर देहात की टीम ने बुधवार को कार्यवाही करते हुए पुलिस थाना- झोटवाड़ा, पुलिस आयुक्तालय जयपुर में कार्यरत हेड कांस्टेबल (थानाप्रभारी के रीडर) बत्तू खान, दलाल सुमंत सिंह और थाने का लिंक लोक अभियोजक चंद्रभान जोशी को 1 लाख रूपए की रिश्वत लेते गिरफ्तार किया कर लिया है. भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो महानिरीक्षक दिनेश एमएन ने बताया कि परिवादी राजवीर सिंह गंगानगरी ने एसीबी में परिवाद देकर बताया कि उसने झोटवाड़ा थाने में मुकदमा नंबर 399/12 जेडीए से संबंधित जमीन की धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज करवाया था जिसमें जांच सीआईडी सीबी द्वारा की गई. 

जांच में आरोपी के खिलाफ जुर्म प्रमाणित माने और मुलजिम को गिरफ्तार करना है तथा मुझे आरोपी से उक्त जमीन के पेटे 36 लाख मिलने हैं. इस मुकदमे में आरोपी की गिरफ्तारी एवं पैसे दिलवाने की एवज में झोटवाड़ा थाने वाले मुझसे 36 लाख रुपए का 10 प्रतिशत के रूप में 3.60 लाख रूपए की रिश्वत की राशि की मांग कर रहे हैं. जिसमें यह मामला ढाई लाख रुपए में सेटल हुआ.

आपको को बता दें कि परिवादी राजवीर सिंह के खिलाफ झोटवाड़ा थाने में ही मुकदमा नंबर 564/18 आईपीसी की धारा 420, 406, 467, 468, 471 में दर्ज था जिसमें परिवादी अभी जमानत पर है, इस मुकदमे में परिवादी के खिलाफ आईपीसी की धारा 467, 468 और पत्नी का नाम भी हटाने की एवज में पूर्व में हैड कांस्टेबल (थानाप्रभारी के रीडर) बत्तू खान और दलाल सुमंत सिंह उससे 5 लाख रूपये रिश्वत की राशि की मांग कर रहे थे एवं 3 लाख रुपए की रिश्वत भी ले चुके हैं.