Jaipur News: बिना फेस रीडिंग विधायक भी सदन के भीतर नहीं जा पाएंगे

राजस्थान विधानसभा (Rajasthan Assembly) का बजट सत्र बुधवार 10 फरवरी से शुरू होने जा रहा है, लेकिन माननीय के साथ-साथ उऩके साथ आए लोगों या स्टाफ के लिए कोरोना काल के बाद सदन में प्रवेश करना आसान नहीं होगा. दरअसल विधानसभा में प्रवेश के लिए सुरक्षा व्यवस्था को लेकर अहम बदलाव किए गए हैं.

Jaipur News: बिना फेस रीडिंग विधायक भी सदन के भीतर नहीं जा पाएंगे
फाइल फोटो

जयपुर: राजस्थान विधानसभा (Rajasthan Assembly) का बजट सत्र बुधवार 10 फरवरी से शुरू होने जा रहा है, लेकिन माननीय के साथ-साथ उऩके साथ आए लोगों या स्टाफ के लिए कोरोना काल के बाद सदन में प्रवेश करना आसान नहीं होगा. दरअसल विधानसभा में प्रवेश के लिए सुरक्षा व्यवस्था को लेकर अहम बदलाव किए गए हैं. सुरक्षा की व्यवस्था ऐसी कि बाहरी लोग तो प्रवेश करने की बात तो छोड़ ही दीजिए माननीयों को भी आधुनिक सुरक्षा चेकिंग (Modern security checking) से गुजरनी होगी. माननीय और सदन के कर्मचारियों के चेहरे की मशीनों के जरिए पहचान होगी, उसके बाद ही सदन के गैलरी या लॉबी तक तक पहुंच पाएंगे.

ये भी पढ़ें: Jaipur News: विधानसभा बजट सत्र के लिए BJP की तैयारियां शुरू, 9 फरवरी को खास बैठक

हाईटेक फ्लैप बैरियर से गुजरना होगा
विधानसभा के बजट सत्र (Budhget Session) के दौरान इस बार विधायकों को विधानसभा के मुख्य भवन से सदन के अंदर तक जाने तक में सुरक्षा के नए इंतजामों से रूबरू होना होगा. अभी तक विधानसभा के चारों दरवाजों पर पहले से ही फ्लैप बैरियर (Flap barrier) के जरिए अंदर प्रवेश दिया जाता है. इस प्रवेश द्वार के जरिए विधानसभा सदस्य, विधानसभा के कर्मचारियों अधिकारियों के साथ कुछ आम लोग भी दाखिल हो जाते थे, लेकिन इस बार सुरक्षा की दृष्टि से विधान सभा सचिवालय यानि सदन के भीतर जाने वाले सभी चारों दरवाजों पर भी फ्लैप बैरियर लगवा रहा है. यह फ्लैप बैरियर हाईटेक हैं और रजिस्टर्ड लोग ही इनको पार कर सकेंगे. 

दरअसल विधानसभा सत्र के दौरान विधानसभा सदस्यों (Assembly members) के साथ में बड़ी संख्या में लोग पहुचते हैं. एमएलए समर्थकों के अलावा विधायकों का निजी स्टाफ भी होता है. पहले ये लोग सदन के कोरिडोर समेत 'हां पक्ष' और 'ना पक्ष' लॉबी तक पहुंच जाते थे. ऐसे अनाधिकृत लोगों को रोकने के लिए ही फ्लैप बैरियर लगाए जा रहे हैं.

क्या है हाईटेक फ्लैप बैरियर की खासियत
आधुनिक फ्लैप बैरियर की खासियत हैं, कि ये फेस रीडर और वेव रीडर के जरिए ही खुलेगे। यानी जो लोग सदन के अंदर जाएंगे उनको अपना रजिस्ट्रेशन पहले करवाना होगा. सदन की बैठक के दौरान काम करने वाले अधिकारियों और कर्मचारियों के  रजिस्ट्रेशन का काम पूरा हो चुका है. अब 10 फरवरी से पहले सभी सदस्यों को रजिस्ट्रेशन करवाने का काम होगा. इसके लिए विधायकों के फेस रीडर और हाथों की वेव रीडर के लिए रजिस्ट्रेशन किया जा रहा है. ताकि सदस्य का चेहरा देखते ही बैरियर खुल जाए. इस बैरियर से पहले मैटल डिक्टेटर भी लगाए जाएंगे.

ये भी पढ़ें: कृषि संशोधन विधेयक राजस्थान विधानसभा में पेश, सदन की कार्यवाही सोमवार तक स्थगित

30 विधायकों को सोफे पर बैठना होगा
विधानसभा में सदन के भीतर इस बार भी कोरोना गाइडलाइन (Corona Guideline) की पालना करते हुए सदस्यों को बिठाया जाएगा. पिछले सत्र की तरह करीब 30 सदस्यों को सामान्य समय में तय सीट से अलग सीटों पर बैठाया जाएगा. इन विधायकों के लिए इस बार कुर्सियों के बजाय सोफे लगाए हैं. इन सोफ़ा के सामने किसी भी तरह की टेबल नहीं होगी, लेकिन जिन विधायकों को सोफे पर बिठाया जाएगा उनके लिए माइक की बजाय लैपल माइक की सुविधा भी दी जाएगी, जिससे वह अपनी बात सदन में रख सके.

विधानसभा के बजट सत्र में उस बार होगी हाईटेक सिक्योरिटी (Hitech Security)
अब सदन की गैलरी में जाने वाले अनाधिकृत लोगों पर लगेगी लगाम
सदन के चारों दरवाजों पर लग रहे फ्लैप बैरियर
सदन के भीतर जाने वाले सदस्यों और विधानसभा स्टाफ का होगा रजिस्ट्रेशन
10 फरवरी से पहले विधानसभा सदस्यों को कराना होगा रजिस्ट्रेशन
सदस्यों के चेहरे और हाथ वेव करने से खुलेगा फ्लेप बैरियर
Copy-Sujit Kumar Niranjan