close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान: जलदाय विभाग के प्रोजेक्ट पर JDA लगातार लगा रहा रोड़ा, 142 करोड़ का काम अटका

जमानत राशि का इंतजाम नहीं होने के कारण करीब काम फिलहाल अटका हुआ है. 

राजस्थान: जलदाय विभाग के प्रोजेक्ट पर JDA लगातार लगा रहा रोड़ा, 142 करोड़ का काम अटका
जेडीए से रोडकट की अनुमति नहीं मिली है. (फाइल फोटो)

जयपुर: जयपुर शहर के खोनागोरियन और जामडोली क्षेत्र में बीसलपुर का पानी पहुंचाने का काम PHED के पास बजट की कमी के कारण शुरू ही नहीं हो पा रहा है. जमानत राशि का इंतजाम नहीं होने के कारण करीब 142 करोड़ रुपए का काम फिलहाल अटका हुआ है. जबकि जलदाय विभाग ने इन दोनों क्षेत्रों में कामकाज शुरू करने के लिए वर्कआर्डर भी दे चुका है. इसके अलावा सर्वे का काम भी लगभग पूरा हो चुका है. 

बताया जा रहा है कि, जेडीए से रोड कट की अनुमति नहीं मिलने से अभी इन क्षेत्रों में काम शुरू नहीं हो पा रहा है. इस काम के लिए पिछले दिनों निविदा प्रक्रिया पूरी कर वर्कआर्डर भी जारी किया जा चुका है. विभागीय सूत्रों के अनुसार, संबंधित कंपनियों की ओर से क्षेत्र के सर्वे का काम भी काफी दिन पहले ही शुरू किया जा चुका है. 

विभागीय नियमों के अनुसार, शहर में किसी भी प्रोजेक्ट में काम शुरू करने के लिए जेडीए से रोडकट की अनुमति लेनी पड़ती है. प्रोजेक्ट में कितनी जगह रोडकट होगा, इसका एक पूरा आंकलन होकर इसके लिए राशि जमा करवानी पड़ती है. तब जाकर जेडीए संबंधित विभाग को रोडकट की अनुमति देता है. खोहनागोरियान क्षेत्र में रोड कट के लिए पीएचईडी को करीब ढाई करोड़ जबकि जामडोली प्रोजेक्ट के लिए भी अलग से करीब इतनी ही राशि जमा करवानी है. लेकिन पीएचईडी के पास अभी रोडकट की अनुमति के लिए डिमांड राशि जमा करवाने के लिए पर्याप्त बजट नहीं होने के कारण अभी तक रोडकट की अनुमति नहीं मिल पाई है.

इस संबंध में विभाग के मुख्य अभियंता आईडी खान ने बताया कि जामडोली और खोहनागोरियान क्षेत्र में अंडरटेकिंग के आधार पर रोडकट की अनुमति देने के लिए जेडीए को पत्र लिखा है. बाद में बजट आते ही राशि जमा करवा दी जाएगी. अभी जेडीए से रोडकट की अनुमति नहीं मिली है. 

वैसे आचार संहिता लगने के कारण फिलहाल काम शुरू भी नहीं हो सकता. लेकिन अब तक दोनों क्षेत्रों में कामकाज से जुड़ी कंपनियों ने इसके लिए जरूरी मैटेरियल निर्माण स्थल तक पहुंचा दिया है. यह मेटेरियल कई दिनों से इलाके में पड़ा हुआ है लेकिन रोड कट की अनुमति के बिना पक्के क्षेत्र में कोई काम शुरू नहीं हो पा रहा है.