close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

पोलिंग बूथ पर बुर्का पहने महिला को देख भड़के झुंझुनूं सांसद नरेंद्र कुमार, देखें वायरल वीडियो

आज झुंझुनूं के मंडावा विधानसभा सीट पर उपचुनाव के दौरान एक पोलिंग बूथ पर सांसद नरेंद्र कुमार बुर्का पहने महिला को देखकर भड़कने का वीडियो वायरल हुआ है.

पोलिंग बूथ पर बुर्का पहने महिला को देख भड़के झुंझुनूं सांसद नरेंद्र कुमार, देखें वायरल वीडियो
उपचुनाव के दौरान झुंझुनूं सांसद बुर्कानशी महिला के साथ उलझते नजर आयें.

संदीप केडिया, झुंझुनू: झुंझुनूं(Jhunjhunu) के मंडावा विधानसभा उपचुनाव (Mandawa Assembly Byelections 2019) पर पूरे प्रदेश की नजर टीकी हुई है. उपचुनाव को लेकर सुबह 7 बजे से मतदान शुरु हुआ मतदान जारी है. लेकिन उप चुनाव के दिन झुंझुनूं के सांसद नरेंद्र कुमार का 2 वीडियो वायरल हुआ है. जिसमें कुछ रोचक घटनाएं भी सामने आ रही हैं. 

बीजेपी सांसद नरेंद्र कुमार(BJP MP Narendra Kumar)का बूथ पर वोटरों, आंगनबाड़ी महिला कार्यकर्ताओं एवं पुलिस कर्मियों से उलझते हुए के 2 वीडियो सोशल मीडिया(Social Media) पर वायरल हो रहे हैं. जिसमें सांसद नरेंद्र कुमार 'बुर्का' पहने वोट देने आई महिलाओं को देखते ही बिफर पड़े. इसके बाद वहां ड्यूटी कर रही आंगनबाड़ी महिला कार्यकर्ता से भी सांसद उलझते नजर आ रहे हैं. वो महिला कार्यकर्ता को नसीहत देते दिखाई दे रहे हैं कि बिना जांच के किसी को भी अंदर नहीं जाने दिया जाए. जबकि किसी महिला पर आपत्ति पर ही होगी पहचान और शिकायत पर ही कर सकती हैं पहचान. 

इसके अलावा दूसरी वीडियो में मलसीसर के बूथ नंबर 37 पर आंगनबाड़ी महिला कार्यकर्ता को ड्यूटी करने व नौकरी करने का हवाला देते दिखाई दे रहे हैं. इसके बाद मामले को गर्माता देख आए पुलिसकर्मी जयसिंह को देखकर सांसद तेज आंखों से देखने लगे. इस दौरान सांसद ऑर्डर का हवाला देते हुए पुलिस कर्मी को यहां तक कहते नजर आ रहे हैं कि दस्तावेज देखने वाले आप कौन होते हो. इसके बाद सांसद वहां से निकल पड़ें. 

आपको बता दें कि यहां बीजेपी से सुशीला सीगड़ा और कांग्रेस से रिटा चौधरी मैदान में है. झुंझुनूं के सांसद नरेंद्र कुमार 2018 के विधानसभा चुनाव के दौरान मंडावा विधानसभा सीट से विधायक चुने गए थे. लेकिन 2019 के लोकसभा चुनाव के बाद संसद सदस्य चुने जाने के बाद उन्होंने अपनी विधानसभा सदस्यता से इस्तीफा दे दिया था.