जोधपुर: हेल्थ सेंटर के उद्घाटन को लेकर BJP-कांग्रेस में ठनी, सरकार ने लगाई धारा 144

बीजेपी ने उद्घाटन का कार्यक्रम बनाया तो चिकित्सा महकमें ने उनसे इजाजत नहीं लेने की बात पर पुलिस को माहौल खराब करने की शिकायत की.

जोधपुर: हेल्थ सेंटर के उद्घाटन को लेकर BJP-कांग्रेस में ठनी, सरकार ने लगाई धारा 144
जिस पर प्रशासन ने गांव में धारा 144 लगा दी.

भूपेश आचार्य/जोधपुर: राजस्थान के बाड़मेर जिले के सिवाना विधानसभा के कुंडल गांव में प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र का उद्घाटन विवाद का कारण बन गया है. बीजेपी ने उद्घाटन का कार्यक्रम बनाया तो चिकित्सा महकमें ने उनसे इजाजत नहीं लेने की बात पर पुलिस को माहौल खराब करने की शिकायत की. जिस पर प्रशासन ने धारा 144 लगा दी. इसके बाद लोगों को इंतजार था कि क्या पीएचसी का उद्घाटन हो पाएगा. केंद्रीय कृषि राज्य मंत्री कैलाश चौधरी गांव में पहुंचे, लेकिन पीएचसी का उद्घाटन किए बगैर ही लौट गए. इस दौरान उन्होंने गौरव पथ का शुभारम्भ किया और कांग्रेस की सरकार पर हिटलरशाही का आरोप लगाया.

कुण्डल गांव में दो करोड़ की लागत से नवनिर्मित राजकीय प्राथमिक केन्द्र के मामले में चिकित्सा विभाग ने ग्रामीणों के बिना इजाजत पीएचसी का उघाटन करने एवं शांति भंग व जनहानि होने का अंदेशा जताने पर उपखण्ड प्रशासन सिवाना ने दो माह के लिए अग्रिम आदेश की तिथि तक कुण्डल में धारा 144 लगा दी. इसके बाद गांव में आरएसी की एक कम्पनी, गुड़ामालानी के चारो थानों की पुलिस सहित लगभग 250 जवानों की तैनाती कर दी गई. साथ में सुरक्षा की कमान अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक व गुड़ामालानी सीओ ने संभाली.

वहीं, ग्रामीणों के बुलावे पर सुबह साढ़े ग्यारह बजे केंद्रीय मंत्री कैलाश चौधरी व विधायक हमीरसिंह भायल कुण्डल पहुंचे. 60 लाख की लागत से विधायक कोष से नवनिर्मित सीसी रोड का उद्घाटन ठाकुर द्वार प्रांगण में किया. धारा 144 के चलते पीएचसी का बिना उद्घाटन किए दोपहर ढाई बजे केंद्रीय मंत्री रिछोली व विधायक हमीरसिंह भायल कोटड़ी के लिए रवाना हो गए. किसी भी प्रकार की अनहोनी घटना नही होने तथा शांति बनी रहने पर प्रशासन ने राहत की सांस ली. 

इससे पूर्व शनिवार को चिकित्सा विभाग ने उपखण्ड अधिकारी प्रमोद सीरवी को लिखित रिपोर्ट पेश कर बताया था कि कुण्डल पीएचसी का अज्ञात ग्रामीण विभाग को बिना सूचित किए उद्घाटन कर रहे हैं। विभाग ने गांव में शांति भंग होने व जनहानि की आशंका भी जताई। इस पर उपखण्ड अधिकारी ने तहसीलदार को मौके पर भेजा, जिसके आशंका को पुख्ता बताए जाने पर उपखण्ड प्रशासन ने धारा 144 लागू कर दी। 

बाड़मेर जिले में मोदी सरकार के मंत्री कैलाश चौधरी और राजस्थान सरकार में राजस्व मंत्री हरीश चौधरी के बीच अब राजनितिक खींचतान दिन-ब-दिन बढ़ती जा रही है. कैलाश चौधरी खुले मन से हरीश चौधरी पर आरोप लगा रहे हैं. वहीं, हरीश चौधरी अभी चुप्पी साधे हुए नजारे लेकिन एक बात जिस तरीके से केंद्रीय कृषि राज्य मंत्री और विधायक को बिना उद्घाटन किए वापस लौटना पड़ा तो बीजेपी की जमकर किरकिरी हुई है.