जानिए आखिर क्यों लगा दौसा कृषि उपज मंडी पर ताला, पुलिस को भी बुलाना पड़ा

दौसा कृषि उपज मंडी के मुख्य दरवाजे पर पल्लेदारों ने हंगामा करते हुए गेट के ताला जड़ दिया.

जानिए आखिर क्यों लगा दौसा कृषि उपज मंडी पर ताला, पुलिस को भी बुलाना पड़ा
पल्लेदारों का आरोप है मंडी चौकीदार और प्रशासन उन्हें आए दिन प्रताड़ित करते हैं.

लक्ष्मी अवतार पटेल, दौसा: राजस्थान की दौसा कृषि उपज मंडी के मुख्य दरवाजे पर पल्लेदारों ने हंगामा करते हुए गेट के ताला जड़ दिया. पल्लेदारों का आरोप है चौकीदार ने मंडी में माल लेकर आए एक किसान और पल्लेदार के साथ मारपीट कर दी. जिसके चलते विवाद हो गया पल्लेदारों का आरोप है मंडी चौकीदार और प्रशासन उन्हें आए दिन प्रताड़ित करते हैं. 

वहीं, दौसा कृषि उपज मंडी की सचिव संतोष कुमारी मीना का कहना है मंडी के पल्लेदार व्यापारियों के साथ मिलकर किसानों का माल बिना गेट पास बनवाए ही अंदर प्रवेश करवाने का प्रयास करते हैं. ऐसा चार-पांच दिनों से विवाद चलता आ रहा है, जिसके चलते चौकीदार ने उन्हें रोकने का प्रयास किया तो पल्लेदारों ने चौकीदारों के साथ मारपीट कर दी. 

मंडी सचिव संतोष कुमारी ने बताया पूरा प्रकरण उच्चाधिकारियों को अवगत करवा दिया गया है. वहीं, जब मंडी सचिव की समझाइश पर पल्लेदारों ने मंडी का दरवाजा नहीं खोला तो मंडी सचिव ने कोतवाली पुलिस को सूचना दी. पुलिस ने मौके पर पहुंचकर पल्लेदारों की समझाइश कर मंडी का दरवाजा खुलवाया. 

वहीं, थाना अधिकारी ने पल्लेदारों से कहा अगर आपके साथ कहीं कुछ गलत हुआ है तो आप उसकी रिपोर्ट थाने में दर्ज करवा देंं उस पर जांच कर कार्रवाई की जाएगी, लेकिन कानून अपने हाथ में नहीं लेवे. पल्लेदारों ने चौकीदार और मंडी प्रशासन के खिलाफ कार्रवाई की मांग को लेकर मंडी में पल्लेदारी का काम ठप कर दिया.

 

ये भी पढ़ें: गहलोत सरकार ने व्यपारियों को दी राहत, मंडी शुल्क पर विरोध के बाद घटाई दर