close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

कोटा: फर्जी अधिकारी बनकर लोगों को नौकरी दिलाने का झांसा दे करता था लाखों की ठगी, गिरफ्तार

सीआई हर्षराज सिंह ने मामले की पड़ताल शुरू की और आस पास के सीसीटीवी फुटेज खंगाले तो आरोपी की तस्वीर सामने आई जिसमे सूट बूट में कार में सवार होकर यह नजर आया.

कोटा: फर्जी अधिकारी बनकर लोगों को नौकरी दिलाने का झांसा दे करता था लाखों की ठगी, गिरफ्तार
प्रतीकात्मक तस्वीर

कोटा: भीमगंज मंडी में पुलिस ने कार्रवाई करते हुए 60 साल के एक फर्जी अधिकारी को गिरफ्तार किया है. जिस पर बेरोजगार और गरीब लोगों को नौकरी दिलाने के नाम पर पैसे लेने और ठगी के 1 दर्जन से अधिक मुकदमे दर्ज हैं. आरोपी हिस्ट्रीशीटर भी है और लाखों रुपये की ठगी नौकरी दिलाने के नाम पर कर चुका है. 

सीओ भगवत सिंह हिंगड़ ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में इस फर्जी अधिकारी भंवरलाल धोबी का भंडाफोड़ किया. आरोप पूर्व में अटरू में चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी भी रह चुका है लेकिन इस दौरान वहां भी धोखाधड़ी करने के आरोप में इसे नौकरी से निकाल दिया गया था. जिसके बाद इसने ठगी की वारदातें करना शुरू किया. आरोपी बेहद शातिर है और लोगों से सर्किट हाउस या कलेक्टरी में मिलता था. जहां यह पहले से ही गेट पर खड़ा हो जाता और लोगों को लगता कि यह किसी ऊंचे ओहदे पर है और वाकई में नौकरी दिलवा देगा. यह इतना शातिर है कि खुद को कभी यह मजिस्ट्रेट, कभी कलेक्टरी में बाबू कभी रोडवेज तो कभी एमबीएस और कोषाधिकारी बताता है. 

ऐसे में बेरोजगार ओर परिजन इसके झांसे में आ जाते. इसका यह फर्जीवाड़ा तब सामने आया जब सुभाष कॉलोनी की रहने वाली सुनीता महावर से नौकरी लगाने के नाम पर इसने खुद को कलेक्टरी में अधीक्षक बताकर पीड़िता से 4 लाख रुपये लिए ले लिए और उसके बाद जब 4 माह तक उसका फोन बंद आया तो पीड़िता ने ठग के खिलाफ भीमगंजमंडी थाने में ठगी का मामला दर्ज करवाया.

सीआई हर्षराज सिंह ने मामले की पड़ताल शुरू की और आस पास के सीसीटीवी फुटेज खंगाले तो आरोपी की तस्वीर सामने आई जिसमे सूट बूट में कार में सवार होकर यह नजर आया. इस आधार पर इसे नामजद कर इसे संतोषी नगर से गिरफ्तार कर लिया. आरोपी के पास 6 सिमकार्ड, 5 अलग अलग नामों से आईडी और 1 फाइल मिली है जिसमे बेरोजगारों से ली गई आईडी मिली हैं. जिनसे यह सिम खरीदता था. आरोपी पूरे ठाठ बाठ के साथ रहता और बेरोजगारों को उन्ही के खर्चे पर कार से कई बार जयपुर भी लेकर गया. आरोपी को जब पकड़ा तो उसने उस दिन भी होटल में कमरा बुक करवा रखा था. अब पुलिस आरोपी से पूछताछ करने में जुटी है.