close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

कोटा: चिकित्सक विभाग की लापरवाही, लोकसभा स्पीकर के प्रोटोकॉल में हुई बड़ी चूक

एमबीएस अधीक्षक डॉ. नवीन सक्सेना ने बताया कि 21 जुलाई को लोकसभा स्पीकर ओम बिरला के प्रोटोकॉल में चूक सामने आई है. सीएमएचओ को सम्बंधित कम्पनी व कार्मिक के खिलाफ कार्रवाई के लिए पत्र लिखा है. 

कोटा: चिकित्सक विभाग की लापरवाही, लोकसभा स्पीकर के प्रोटोकॉल में हुई बड़ी चूक
सीएमएचओ को सम्बंधित कम्पनी व कार्मिक के खिलाफ कार्रवाई के लिए पत्र लिखा है. (फाइल फोटो)

कोटा/ मुकेश सोनी: लोकसभा स्पीकर ओम बिड़ला के कोटा दौरे के दौरान चिकित्सा विभाग की लापरवाही सामने आई है. सीएमएचओ विभाग द्वारा ओम बिड़ला के प्रोटोकॉल में लगाई गई 108 एम्बुलेम्स समय पर नहीं पहुंची. आनन फानन में एमबीएस प्रशासन ने ओमनी एम्बुलेन्स की व्यवस्था की और चिकित्सकों की टीम के साथ ओमनी एम्बुलेन्स को ओम बिड़ला के प्रोटोकॉल में रेलवे स्टेशन भेजा गया. प्रोटोकॉल में 108 एम्बुलेन्स देरी से भेजने के मामले में लापरवाही मानते हुए एमबीएस अधीक्षक ने सीएमएचओ को पत्र जारी कर सबंधित कार्मिक के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है. 

21 जुलाई को लोकसभा स्पीकर ओम बिड़ला के कोटा आने के तय कार्यक्रम के मध्यनजर एमबीएस प्रशासन की और से प्रोटोकॉल में चिकित्सकों की टीम भेजनी थी. जबकि 108 एम्बुलेंस भेजने की व्यवस्था सीएमएचओ विभाग को करनी थी. एमबीएस प्रशासन ने 18 जुलाई को सीएमएचओ को पत्र भेजकर तय कार्यक्रम के 21 जुलाई को प्रातः 2 बजे 108 एम्बुलेंस उपलब्ध कराने को कहा था. और बाकायदा आमद रसीद प्राप्त की थी. 21 जुलाई को एमबीएस में प्रातः 2 बजे चिकित्सको की टीम पहुंची और 108 एम्बुलेन्स का इंतजार करती रही लेकिन सम्पर्क करने के बाद भी 3 बजे तक जब 108 एम्बुलेन्स नहीं पहुंची तो चिकित्सकों की टीम के हाथ पैर फुल गए. आनन फानन में एमबीएस में मौजूद ओमनी एम्बुलेंस को लेकर चिकित्सकों की टीम प्रोटोकॉल के लिए रेलवे स्टेशन पहुंची. माननीय जब शक्ति नगर आवास पर पहुंचे जब डेढ़ घण्टे बाद सीएमएचओ विभाग से 108 एम्बुलेंस प्रोटोकॉल में शामिल हुई और ओमनी एम्बुलेन्स को वापस रवाना किया.

चूक पर उठ रहे सवाल!
इस चूक पर सीएमएचओ डॉ. भूपेंद्र सिंह तंवर की दलील गले नहीं उतर पा रही है. उनका कहना है कि 108 एम्बुलेन्स खराब हो गई थी. यदि 108 एम्बुलेंस खराब हो गई थी तो शहर में और भी 108 एम्बुलेंस है उनमें से किसी दूसरी एम्बुलेंस को भेजा जा सकता था. वहीं  प्रातः 2 बजे 108 एम्बुलेंस खराब हुई तो प्रातः 5 बजकर 30 मिनट पर एम्बुलेंस कैसे ठीक हो गई. इतनी जल्दी मिस्त्री और सामान कैसे आया होगा? कहीं ऐसा तो नहीं प्रातः 2 बजे 108 एम्बुलेन्स चालक की नींद नहीं खुली. और जब नींद खुली तो तीन घण्टे लेट करीब प्रातः 5 बजकर 30 मिनट पर माननीय ओम बिड़ला के घर पहुंचा.

इनका कहना
एमबीएस अधीक्षक डॉ. नवीन सक्सेना ने बताया कि 21 जुलाई को लोकसभा स्पीकर ओम बिड़ला के प्रोटोकॉल में चूक सामने आई है. सीएमएचओ को सम्बंधित कम्पनी व कार्मिक के खिलाफ कार्रवाई के लिए पत्र लिखा है. वहीं सीएमएचओ डॉ. भूपेंद्र सिंह तंवर का कहना है कि स्पीकर ओम बिड़ला के प्रोटोकॉल लगने वाली 108 एम्बुलेन्स खराब हो गई थी. लापरवाही के मामले में कार्रवाई के लिए पत्र मिला है. 108 एम्बुलेंस संचालन करने वाली कम्पनी जेडीकेएमआरआई को कारण बताओ नोटिस जारी किया है. कम्पनी ने 108 एम्बुलेंस के कार्मिक को हटाया है.