बीजेपी सांसद निहालचंद मेघवाल हुए बागी, कहा- मेहनती कार्यकर्ताओं की उपेक्षा कर रही पार्टी

रायसिंहनगर में इन नियुक्तियों को लेकर मचे बवाल के बीच बीजेपी (BJP) से सांसद निहालचंद मेघवाल ने पार्टी के प्रदेश नेतृत्व के निर्णय पर सवाल उठाए हैं. 

बीजेपी सांसद निहालचंद मेघवाल हुए बागी, कहा- मेहनती कार्यकर्ताओं की उपेक्षा कर रही पार्टी
. सांसद निहालचंद ने साफ-साफ शब्दों में कहा कि वे नहीं जानते की पार्टी किस दिशा में जा रही है.

श्रीगंगानगर, कुलदीप गोयल: रायसिंहनगर में बीजेपी (BJP) नगर और देहात मंडलों में हुई सांगठनिक नियुक्तियों पर सांसद निहालचंद मेघवाल ने प्रेस वार्ता कर नाराजगी जाहिर की है. 

रायसिंहनगर में इन नियुक्तियों को लेकर मचे बवाल के बीच बीजेपी (BJP) से सांसद निहालचंद मेघवाल ने पार्टी के प्रदेश नेतृत्व के निर्णय पर सवाल उठाए हैं. सांसद निहालचंद मेघवाल का आरोप है कि लोकसभा चुनावों में पार्टी की प्रत्यक्ष खिलाफत करने वाले बागी कार्यकर्ताओं को संगठन के महत्वपूर्ण पदों पर बैठा दिया गया है जबकि पार्टी से जुड़े कार्यकर्ताओं की उपेक्षा की गई है.

आरोप है कि संगठन में नियुक्त किए गए पदाधिकारियों ने लोकसभा चुनावों में निहाल चोपड़ो अभियान नामक समूह बनाकर प्रत्यक्ष विरोध किया था. सांसद निहालचंद ने साफ-साफ शब्दों में कहा कि वे नहीं जानते की पार्टी किस दिशा में जा रही है. उन्होंने कहा कि बीजेपी (BJP) राजनैतिक दलों में सबसे अधिक अनुशासित पार्टी थी लेकिन प्रदेश नेतृत्व ने संगठन में नियुक्तियों को लेकर किए गए निर्णय में सांसद होने के बावजूद उनकी राय को कोई महत्व नही दिया है. यहां तक कि स्थानीय प्रधान और पालिकाध्यक्ष जैसे जनप्रतिनिधियों की राय को भी नजरअंदाज कर दिया गया. उन्होंने प्रदेश नेतृत्व के निर्णय पर सवाल उठाते हुए कहा कि प्रदेश नेतृत्व का निर्णय स्थानीय स्तर पर पार्टी को नुकसान पहुंचाने वाला है. 

आगे उन्होंने कहा कि सीधे तौर पर इससे पार्टी को नुकसान होगा. सांसद निहालचंद मेघवाल ने कहा कि जिला कार्यकारिणी की बैठक में उन्होंने संगठन में नियुक्तियों पर अपनी राय लिखित में दी थी. 

आपको बता दें कि बीजेपी (BJP) विधानसभा चुनावों में हार के बाद से ही प्रदेश स्तर पर हुए चुनावों में लगातार हार रही है, जिसको लेकर पार्टी में भी मंथन का दौर जारी है.

Sanjay Yadav, News Desk