close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान: गहलोत सरकार के 23 मंत्रियों ने ली शपथ, कुछ देर में होगी विभागों की घोषणा

राजस्थान में गहलोत सरकार के 23 मंत्रियों ने राजभवन में शपथ दिलाई जा चुकी है.

राजस्थान: गहलोत सरकार के 23 मंत्रियों ने ली शपथ, कुछ देर में होगी विभागों की घोषणा
जयपुर में शपथ ग्रहण समारोह के दौरान शपथ लेते मंत्रियों को शपथ दिलाते राज्यपाल कल्याण सिंह.

जयपुर: राजस्थान के नए मंत्रिमंडल के सोमवार(24 दिसंबर) को राजभवन में हो रहे शपथ ग्रहण समारोह के दौरान राज्यपाल कल्याण सिंह ने नवगठित गहलोत सरकार के 23 मंत्री पद और गोपनियता की शपथ दिलाई है. शपथ ग्रहण के दौरान मंच पर सीएम अशोक गहलोत और उप-मुख्यमंत्री सचिन पायलट भी मौजूद थे. 

सोमवार को जयपुर स्थित राजभवन में हुए शपथ ग्रहण समारोह के दौरान मंत्री के तौर पर बी डी कल्ला, रघु शर्मा, शांति धारीवाल, लालचंद कटारिया, प्रमोद जैन भाया, परसादी लाल मीणा, विश्वेन्द्र सिंह, हरीश चौधरी, रमेश चंद्र मीणा, भंवर लाल मेघवाल, प्रताप सिंह खाचरियावास, उदय लाल अंजाना, सालेह मोहम्मद, और गोविंद सिंह डोटासरा ने शपथ ली है. इसके अलावा मंत्रिमंडल में शपथ लेने वालो में ममता भूपेश, अर्जुन सिंह बामनिया, भंवर सिंह भाटी, सुखराम विश्नोई, अशोक चांदना, टीकाराम जोली, भजनलाल जाटव, राजेन्द्र सिंह यादव, और आरएलडी के सुभाष गर्ग शामिल है.

इस बार के गहलोत के नए कैबिनेट के लिए 13 कैबिनेट मंत्रियों को शपथ दिलाई गई है. वहीं गहलोत के इस कैबिनेट में 10 राज्य मंत्री भी बने है. इस बार के गहलोत के कैबिनेट में 17 विधायक ऐसे हैं जो पहली बार मंत्री बने हैं. 

रघु शर्मा के शपथ लेने के दौरान सभा स्थल से जय श्री राम का नारा गूंज रहा था. इस दौरान शपथ लेने आए मंत्रियों के परिजन भी मौजूद रहे. वहीं, विपक्ष की तरफ से पूर्व मंत्री राजेंद्र राठौड़, कैलाश मेघवाल भी उपस्थित रहे. 

गहलोत के इस मंत्रिमंडल में शपथ लेने वाले मंत्रियों के विभागों की घोषणा भी कुछ देर में हो सकती है. आपको बता दें कि, गहलोत की सरकार में 5 मंत्री पद खाली रह गए है. माना जा रहा है कि तय राजनीतिक रणनीति के तहत 5 मंत्री पद खाली रखे गए हैं. अब लोकसभा चुनाव के बाद  रिपोर्ट  कार्ड जांचने के बाद रिशफ्लिंग और खाली पदों को भरने की कवायद होने की उम्मीद है.  

आपको बता दें कि, गहलोत के इस नए मंत्रिपरिषद में सभी संभागों को प्रतिनिधित्व देने के साथ ही जातीय संतुलन भी साधने की कोशिश की गई है. इस बार ब्राह्मण दो नाम, जबकि चार जाट, दो राजपूत, तीन वैश्य को मंत्रिमंडल में जगह दी गई है. इसके साथ ही अनुसूचित जाति के चार, अनुसूचित जनजाति के तीन विधायकों को मंत्रिपरिषद में शामिल किया गया है. अनुसूचित जनजाति में वागड़ से भी एक प्रतिनिधि शामिल है. गहलोत की मंत्रिपरिषद में सोमवार को शामिल होने वाले नामों में एक-एक चेहरा मुस्लिम, यादव, विश्नोई, गुर्जर और कलाल समाज से भी लिया गया है.