जनसमस्याओं को अधिकारी गंभीरता समय पर करे निस्तारित- स्वायत्त शासन मंत्री

स्वायत्त शासन मंत्री शांति धारीवाल ने सिविल लाइन्स स्थित आवास पर जनसुनवाई कर आम नागरिकों की समस्याओं को सुना. 

जनसमस्याओं को अधिकारी गंभीरता समय पर करे निस्तारित- स्वायत्त शासन मंत्री
स्वायत्त शासन मंत्री शांति धारीवाल

हिमांशु मित्तलकोटा: स्वायत्त शासन मंत्री शांति धारीवाल ने सिविल लाइन्स स्थित आवास पर जनसुनवाई कर आम नागरिकों की समस्याओं को सुना. मौके पर ही संबधित विभागों के अधिकारियों से तथ्यात्मक जानकारी लेकर समयबद्ध निस्तारण के निर्देश दिये.
 
स्वायत्त शासन मंत्री ने तीन घंटे तक लगातार आम नागरिकों के बीच कोरोना के प्राटोकॉल के तहत सोशल डिस्टेंसिंग की पालना करते हुए एक-एक परिवादी से रूबरू हुए तथा समस्याओं के बारे में पूरी जानकारी ली. उन्होंने मौके पर ही उपस्थित विभागों के अधिकारियों से समस्याओं के बारे में तथ्यात्मक जानकारी लेकर मजमें आम में ही समस्या निराकरण के लिए समय निर्धारित करते हुए अधिकारियों को निर्देश प्रदान किये. आम नागरिकों द्वारा पेयजल, विद्युत, नगर निगम तथा व्यक्तिगत लाभ की योजनाओं के बारे में परिवाद दिये गये.

ये भी पढ़ें: राजस्थान में गहलोत सरकार ने अपनाई 'जीरो करप्शन नीति', धड़ाधड़ कार्रवाई कर रही ACB

सैंकडों परिवाद आये
स्वायत्त शासन मंत्री द्वारा कि गई जनसुनवाई में सैकड़ों की संख्या में परिवाद प्राप्त हुए जिन्हें दर्ज किया जाकर मौके पर ही संबन्धित विभागों के अधिकारियों को समयबद्धता तय करते हुए निराकरण के निर्देश दिये गये. जनसुनवाई में उपस्थित अधिकारियों को उन्होंने नियमित रूप से आम नागरिकों की सुनवाई कर मूलभूत आवश्यकताओं का समय पर निराकरण करने के निर्देश दिये. विभिन्न कॉलोनियों में पेयजल लाइन डालने, सड़क, नाला निर्माण, विद्युत सप्लाई की समस्याऐं का उन्होंने तकमीना बनाने के निर्देश दिये. इस अवसर पर एसीईओ जिला परिषद प्रतिभा देवठिया, जिला रसद अधिकारी मोहम्मद ताहिर, अधीक्षण अभियंता नगर निगम प्रेमशंकर शर्मा, अधीषाशी अभियंता सानिवि शरद सक्सेना, जलदाय बीबी मिगलानी, उप निदेशक महिला बाल विकास प्रभा मिश्रा सहित अधिकारी गण उपस्थित रहे.

ये भी पढ़ें: राजस्थान के सरहदी जिलों के लिए गहलोत सरकार का बड़ा कदम, खर्च होंगे 337 करोड़