बूंदी बस हादसा: घायलों से मिलने पहुंचे चिकित्सा मंत्री और UDH मंत्री की छलकी आंखें...

सीएम गहलोत ने मुख्यमंत्री सहायता कोष से मृतकों के आश्रितों को दो-दो लाख रुपये और घायलों को 40-40 हजार रुपये की सहायता देने की घोषणा की है.

बूंदी बस हादसा: घायलों से मिलने पहुंचे चिकित्सा मंत्री और UDH मंत्री की छलकी आंखें...
चिकित्सा मंत्री ने कहा कि यह बड़ी दुखांतिका है.

कोटा: मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) ने बूंदी जिले के लाखेरी के पास मेज नदी में बस गिरने से हुए दर्दनाक हादसे में लोगों की मौत पर दुख व्यक्त किया. साथ ही शोकाकुल परिजनों के प्रति गहरी संवेदना व्यक्त की है. उन्होंने हादसे में घायलों के शीघ्र स्वास्थ्य लाभ की भी कामना की.

सीएम गहलोत ने मुख्यमंत्री सहायता कोष से मृतकों के आश्रितों को दो-दो लाख रुपये और घायलों को 40-40 हजार रुपये की सहायता देने की घोषणा की है.

गमगीन माहौल में अंतिम विदाई
मेज नदी हादसे में मृतकों का गमगीन माहौल में हजारों लोगों की मौजूदगी में किशोरपुरा मुक्तिधाम में अंतिम संस्कार किया गया. अंतिम संस्कार के समय लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला, चिकित्सा तथा सूचना एवं जनसंपर्क मंत्री रघु शर्मा, परिवहन मंत्री प्रतापसिंह खाचरियावास, कोटा दक्षिण विधायक संदीप शर्मा, पूर्व न्यास अध्यक्ष रविन्द्र त्यागी, संभागीय आयुक्त एल.एन.सोनी, उपमहानिरीक्षक पुलिस कोटा रेंज रविदत्त गौड, जिला कलक्टर ओम कसेरा, एमआरएस सदस्य क्रांति तिवारी सहित जनप्रतिनिधि एवं गणमान्य लोगों ने उपस्थित रहकर गमगीन माहौल में एक साथ 21 शवों को अंतिम विदाई दी. इसके अतिरिक्त 2 शव बारां और एक शव का नए कोटा के मुक्तिधाम में अंतिम संस्कार किया गया.

परिजनों को बंधाया ढांढस
किशोरपुरा मुक्तिधाम पर पहुंचे चिकित्सा मंत्री और परिवहन मंत्री ने मृतकों के परिजनों से मिलकर उन्हें ढांढस बंधाया. उन्होंने कहा कि दुख की इस घड़ी में सरकार आपके साथ हैं. मुख्यमंत्री सहित पूरी सरकार उनके साथ खड़ी है. बच्चों की परवरिश में परेशानी नहीं हो, इसकी व्यवस्था की जाएगी.

चिकित्सा मंत्री ने कहा कि यह बडी दुखांतिका है. मुख्यमंत्री ने तत्काल इस घटना पर संवेदनशीलता दिखाते हुए सहायता राशि जारी की तथा घायलों के इलाज के लिए निर्देश दिए. उन्होंने सरकार द्वारा दुर्घटनाओं को रोकने के लिए उठाये गये कदमों की जानकारी देते हुए कहा कि अब निजी अस्पताल भी उपचार से मना नहीं कर सकते.

परिवहन मंत्री ने संवेदना व्यक्त करते हुए कहा कि इस तरह की घटनाओं की पुनरावृत्ति नहीं हो, यह सुनिश्चित किया जाएगा. पुलिया क्षतिग्रस्त होने के कारणों की जांच कर दुर्घटनाओं को रोकने के लिए ऐसे स्थानों को चिन्हित कर दुरुस्त किया जाएगा.

घायलों की जानी कुशलक्षेम
चिकित्सा मंत्री रघु शर्मा तथा परिवहन मंत्री प्रतापसिंह खाचरियावास महाराव भीमसिंह चिकित्सालय पहुंचे और मेज नदी दुखांतिका में घायलों से मिलकर उनकी कुशलक्षेम पूछी. उन्होंने अस्पताल प्रबंधन को उचित इलाज के साथ विशेष टीम गठित कर निरंतर देखभाल करने के निर्देश दिए. उन्होंने सर्किट हाउस में प्रशासनिक अधिकारियों के साथ बैठक कर दुखांतिका में प्रभावित परिवारों के बारे में पूरी जानकारी एकत्रित करने तथा परिजनों को सामाजिक सुरक्षा की योजनाओं में भी लाभान्वित करने के निर्देश दिए.

raghu sharma and pratap singh khachariyawas emotional bundi bus accident kota

यूडीएच मंत्री ने की संवेदना व्यक्त
स्वायत्त शासन मंत्री शांति धारीवाल ने घटना को दुर्भाग्यपूर्ण बताते हुए गहरी संवेदना व्यक्त की तथा मृतकों आश्रितों को दुख सहने की शक्ति प्रदान करने की ईश्वर से कामना की. उन्होंने अपनी संवेदना में कहा कि संपूर्ण हाड़ौती के लिए यह दुखद घटना है. एक ही परिवार में 24 लोगों की मृत्यु हृदयविदारक है. सरकार दुख की इस घड़ी में परिजनों के साथ है. उन्होंने जिला प्रशासन को निर्देश देकर शवों को घर तक पहुंचाने के लिए एंबुलेंस की व्यवस्था करने तथा अंत्येष्टि के लिए इंतजाम करने के निर्देश दिए. उन्होंने शीघ्र ही परिजनों के घर जाकर मिलने की बात कही.

raghu sharma and pratap singh khachariyawas emotional bundi bus accident kota

कोटा के एमबीएस अस्पताल में उपचाराधीन घायलों के नाम
1. मूरली वर्मा पुत्र श्री बाबुलाल (55 वर्ष)
2.  मंजू पत्नी श्री महावीर (44 वर्ष)
3. कुमारी टीना पुत्री श्री सुरेश (20 वर्ष)