close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान: मंत्री जी के औचक निरीक्षण के बाद खुफिया कैमरे ने खोली छात्रावास की पोल

मंत्री मास्टर भवंरलाल मेघवाल के औचक निरीक्षण में खाना भी ठीक मिला, साफ सफाई भी चकाचक. छात्रावासों के ऐसी तस्वीर देखकर मंत्री बेहद खुश नजर आए

राजस्थान: मंत्री जी के औचक निरीक्षण के बाद खुफिया कैमरे ने खोली छात्रावास की पोल
मंत्री जी ने दिया अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई का आदेश

आशीष चौहान/जयपुर: सरकार में मंत्री बनने के बाद भवंरलाल मेघवाल पहली बार औचक निरीक्षण के लिए पहुंचे. बालिका दिवस पर मंत्री ने तय किया कि वह बालिका छात्रावासों में का औचक निरीक्षण करेंगे, लेकिन ये नहीं बताया गया था कि कौन से छात्रावास में औचक निरीक्षण करेंगे. इस औचक निरीक्षण के दौरान मंत्री मेघवाल को किसी भी तरह की खामी नजर नहीं आई. लेकिन जी मीडिया के खुफिया कैमरे में बालिकाओं ने छात्रावास के पूरे सिस्टम ही पोल खोल दी. 

मंत्री भवंरलाल मेघवाल के औचक निरीक्षण में खाना भी ठीक मिला, साफ सफाई भी चकाचक. छात्रावासों के ऐसी तस्वीर देखकर मंत्री बेहद खुश नजर आए, लेकिन जी मीडिया के कैमरे ने देखा तो वहां तो कुछ और ही तस्वीर निकलकर सामने आई. मंत्री छात्रावास में जरूर पहुंचे, लेकिन बालिकाओं ने कोई भी समस्याएं मंत्री को नहीं बताई. ऐसा इसलिए क्योंकि पहले भी बालिकाओं ने मंत्री और अधिकारियों से शिकायत की थी, लेकिन इसके बाद बालिकाओं ने छात्रावास स्टाफ परेशान करता था. इस डर से छात्रावासों ने अपना मुंह खोलना उचित नहीं समझा. 

छात्राओं की पीडा सुनकर जी मीडिया की टीम दूसरे छात्रावासों में पहुंची तो वहां भी इसी तरह की पोल खुलती हुई दिखाई दी. बालिकाओं ने अधिकारियों की पोल खोली कि औचक निरीक्षण का पता को 15 दिनों से ही था. ऐसे में जब बालिकाओं को ही इस बात का पता था कि मंत्री जी औचक निरीक्षण के लिए आएंगे तो छात्रावास स्टाफ को तो पहले ही पता होना निश्चित है. ऐसे में औचक निरीक्षण पर सवाल उठने लगे है. इतना ही नहीं छात्रावास में दूध की मात्रा भी कम ही होती है, जिस कारण छात्राएं पानी मिला हुआ दूध पीती है.

मंत्री जी के निरीक्षण के बीच जब जी मीडिया ने छात्राओं की पीड़ा बताई तो मंत्री जी ने तुरंत आदेश दिए कि ऐसे अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई होगी. इसके साथ साथ उन्होने ये भी तय किया कि पिछली बार जब मैं औचक निरीक्षण के लिए निकलूंगा तो किसी को बताकर नहीं जाउंगा. सरकारी गाडी के साथ नहीं बल्कि खुद की पर्सनल गाड़ी से छात्रावासों का रात में दौरा करूंगा.