close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान सरकार का उद्योग महकमा स्टोन सेक्टर में तलाशेगा नवीन संभावनाएं- परसादीलाल मीणा

नई नीति और प्रावधान ऐसे हैं कि राजस्थान के प्रत्येक क्षेत्र में निवेश होगा. स्टोन सेक्टर में विकास के प्रयास भी किए जा रहे हैं. 

राजस्थान सरकार का उद्योग महकमा स्टोन सेक्टर में तलाशेगा नवीन संभावनाएं- परसादीलाल मीणा
फाइल फोटो

जयपुर/ अंकित तिवाड़ी: राजस्थान सरकार वर्ष 2021 का स्टोन मॉर्ट 35 हजार वर्गफीट क्षेत्र में आयोजित करेगी. इसमें पार्टनर देशों की संख्या के साथ 60 से अधिक देशों के निवेशक, तकनीकी सेवा प्रदाता, बॉयर्स और एग्जीबीटर्स लाने के प्रयास किए जाएगें. उद्योग भवन में रीको, सिडोस और फिक्की के बीच हुए सांझा करार के बाद उद्योग मंत्री परसादीलाल मीणा ने कहा कि हम समेकित विकास पर फोकस कर रहे हैं. 

नई नीति और प्रावधान ऐसे हैं कि राजस्थान के प्रत्येक क्षेत्र में निवेश होगा. स्टोन सेक्टर में विकास के प्रयास भी किए जा रहे हैं. राजस्थान में अब तक आयेाजित हुए स्टोन मार्ट प्रदेश के स्टोन सेक्टर को नई दिशा देने में सफल रहे हैं. नई औद्वोगिक नीति और एमएसएमई पॉलिसी जारी होने से धरातल पर निवेश भी दिखेगा. 

उद्योग भवन में हुए एमओयू पर एमडी गौरव गोयल, सिडोस के मुकुल रस्तोगी और फिक्की के मानव मजूमदार ने हस्ताक्षर किए. इस अवसर पर उद्योग एसीएस डा सुबोध अग्रवाल, प्रमुख सचिव आलोक, आयुक्त डा कृष्णा कांत पाठक सहित विभाग के अधिकारी मौजूद रहे. इंडिया स्टोन मार्ट का ग्यारहवां एडिशन कई मायनों में खास होगा. रीको एमडी गौरव गोयल ने कहा कि एमओयू आयोजन से काफी पहले किया गया हैं ताकि इस सेक्टर के विश्वभर में मौजूद दिग्गजों की मौजूदगी सुनिश्चित की जा सकें. कोशिश रहेगी की स्टोन मॉर्ट के जरिए राजस्थान के पत्थर उद्योग को नई चमक दिलाई जा सकें. 

प्रदेश का उद्योग महकमा इन दिनों काफी एक्टिव है. सीएम अशोक गहलोत के निर्देश पर उद्योग मंत्री परसादीलाल मीणा और उनकी पूरी टीम अधिक सजगता के साथ नई नीतियों और संभावनाओं पर काम कर रही है. प्रदेश में बीते एक अरसे से नए औद्योगिक क्षेत्र और इकाईयां नहीं आई हैं. नई पॉलिसी के साथ अधिकारियों की गति परिणाम देने वाली रही तो अपने कुशल मानवश्रम, उपलब्घ भूखंड, शांत औद्योगिक वातावरण, परिवहन के मजबूत संसाधनों के जरिए राजस्थान निवेशस्थान साबित होगा.