सीकर: पंचायतीराज चुनावों से पहले कम्युनिस्ट पार्टी की बैठक, BJP और कांग्रेस पर बोला हमला

 पंचायत चुनाव में माकपा पार्टी जनता का एक-एक पैसा विकास में लगाने के लिए पंचों से लेकर सरपंच और डायरेक्टर पद के लिए प्रत्याशियों को चुनाव मैदान में उतारेगी.

सीकर: पंचायतीराज चुनावों से पहले कम्युनिस्ट पार्टी की बैठक, BJP और कांग्रेस पर बोला हमला
प्रतीकात्मक तस्वीर.

अशोक, सीकर: आगामी होने वाले पंचायती चुनाव (Panchaytiraj Election) को लेकर चुनाव आयोग (Election Commission) भले ही मतदान की तिथि का निर्धारण नहीं कर सका हो लेकिन सीकर जिले के लक्ष्मणगढ़ मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (Marxist Communist Party) ने पंचायत चुनाव को लेकर कमर कस ली है.

लक्ष्मणगढ़ में मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी कार्यालय में माकपा नेता अमराराम के अध्यक्षता में पार्टी कार्यकर्ताओं की बैठक आयोजित हुई. आयोजित बैठक को संबोधित करते हुए माकपा नेता अमराराम ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी (BJP) और कांग्रेस (Congress) भले ही भ्रष्टाचार की जननी रही हो लेकिन पंचायत चुनाव में माकपा पार्टी जनता का एक-एक पैसा विकास में लगाने के लिए पंचों से लेकर सरपंच और डायरेक्टर पद के लिए प्रत्याशियों को चुनाव मैदान में उतारेगी.

दरअसल, राजस्थान में जनवरी और फरवरी में पंचायतीराज चुनाव होने हैं. चुनाव के लिए लॉटरी निकलने के बाद आरक्षण की तस्वीर तो साफ हो गई लेकिन अब तक पंचायतों के पुर्नगठन की तस्वीर अब भी धुंधली ही दिखाई दे रही है. 
हाईकोर्ट के आदेश के बाद 15 और 16 नवंबर के बाद पंचायतीराज विभाग की अधिसूचना रद्द हो चुकी है. ऐसे में अब ग्राम पंचायत और पंचायत समितियों की पुर्नगठन की स्थिति अब तक साफ हो नहीं पाई है क्योंकि अब राज्य सरकार सुप्रीम कोर्ट में चली गई है. ऐसे में अब सुप्रीम के आदेश के बाद ही तस्वीर साफ हो पाएगी कि 15 और 16 नवंबर के बाद वाले आदेश लागू होते है या नहीं. 

हाईकोर्ट के आदेश के बाद पंचायतीराज विभाग को बडा झटका लगा था. कोर्ट के आदेश के बाद 17 नवंबर को जारी अधिसूचना में 178 नई ग्राम पंचायतों और 6 पंचायत समितियों का पुर्नगठन रद्द हो चुका है. वहीं 12 दिसंबर को जारी अधिसूचना में झुंझुनू और नागौर में 26 नई ग्राम पंचायतों और 3 पंचायत समितियों के आदेश भी रद्द हो चुके हैं.