close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान: नेता जी ने बेटी की शादी में चमकाई राजनीति, कार्ड पर छपवाया नेताओं का नाम

कांग्रेस एससी विभाग के जयपुर संभाग समन्वयक राजेंद्र बैरवा की बेटी की 29 जनवरी को शादी होनी है

राजस्थान: नेता जी ने बेटी की शादी में चमकाई राजनीति, कार्ड पर छपवाया नेताओं का नाम
कार्ड पर बिरसा मुंडा, संत कबीर, ज्योतिबा फुले, संत रविदास के फोटो भी है.

प्रमोद कुमार/अलवर: शादी के कार्ड में आप हमेशा से सर्वप्रथम पूज्य भगवान गणेश जी की फोटो देखते हुए आए होंगे. लेकिन इन दिनों एक कांग्रेस नेता की बेटी की शादी का कार्ड राजनीतिक गलियारों में चर्चा का विषय बन गया है. शादी का सीजन इन दिनों अपने सबाब पर है. शादी वाले घरों में तैयारियां पूरे जोर शोर से चल रही है ऐसे ही एक घर में जहां शादी के तैयारियो को अंतिम रूप दिया जा रहा है. 

राजस्थान के अलवर जिले के गांव गड़ी सवाईराम जहां कांग्रेस एससी विभाग के जयपुर संभाग समन्वयक राजेंद्र बैरवा की बेटी की शादी है. जिसके लिए लोगों को आमंत्रित करने के लिए कार्ड भी छपे है. लेकिन यह कार्ड कुछ हटके है क्योंकि नियम के मुताबिक शादी का पहला नाम प्रथम पूज्य भगवान गणेश का नाम नहीं है. हिन्दू धर्म के अनुसार पहला न्योता गणेश जी को दिया जाता है लेकिन इस घर में पहला न्योता के रूप में अम्बेडकर साहब से लेकर सोनिया गांधी, राहुल गांधी, अशोक गहलोत, सचिन पायलट की फोटो छाप कर दिया गया है. 

गौरतलब है कि कांग्रेस एससी विभाग के जयपुर संभाग समन्वयक राजेंद्र बैरवा की बेटी की 29 जनवरी को शादी होनी है, जिसके लिए उन्होंने शादी का ऐसा कार्ड छपवाया है जो अन्य कार्ड्स से एकदम अलग है. राजेन्द्र बैरवा अलवर जिले के गढ़ी सवाईराम कस्बे के निवासी हैं. इसमें खास बात ये है कि इस कार्ड के कवर पर गणेशजी की जगह डॉ. भीमराव अंबेडकर, राहुल गांधी, सोनिया गांधी, राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत, डिप्टी सीएम सचिन पायलट के फोटो छपवाए गए हैं. इसके अलावा कार्ड पर बिरसा मुंडा, संत कबीर, ज्योतिबा फुले, संत रविदास के फोटो भी हैं.

इसके अलावा कार्ड पर गणेश वंदना की जगह बौद्ध धर्म सूत्र वाक्य ‘बुद्धम शरणम गच्छामि‘ भी छपवाया गया है. कांग्रेस नेता के इस तरह से शादी के कार्ड का छपना एक अनोखा मामला है. जिसके बाद से राजनीतिक गलियारों में काफी चर्चाएं होने लगी हैं.इस कार्ड में राहुल गांधी, गहलोत, अंबेडकर आदि की तस्वीर लगाए जाने पर जब हमने बैरवा से बात की तो उन्होंने कहा कि वे संविधान पर विश्वास करते हैं. बैरवा ने उदाहरण देते हुए कहा कि किसी दलित दूल्हे को घोड़ी से उतारा जाता है तो सविंधान उसकी रक्षा करता है, इसलिए उन्होंने भीमराव अम्बेडकर की तस्वीर लगाई है.

वहीं कांग्रेसी नेताओं की तस्वीर लगाने पर उन्होंने कहा कि वे पार्टी के पदाधिकारी हैं और पार्टी के शीर्ष नेता उनके लिए सर्वोपरि हैं, इसलिए उन्होंने पार्टी के शीर्ष नेताओं की तस्वीर छपवाई है. बैरवा ने कहा कि उन्होंने कार्ड में भगवान गौतम बुद्ध, संत कबीर आदि की तस्वीर भी लगवाई है.

राजेन्द्र बैरवा ने इस कार्ड के अंदर संसद के साथ राहुल गांधी और राजस्थान विधानसभा के साथ मुख्यमंत्री अशोक गहलोत व उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट की तस्वीर भी छपवाई है.  उन्होंने कार्ड में बेटी बचाओ, बेटी पढ़ओ, बिजली बचाओ, पानी बचाओ, पेड़ लगाओ, पर्यावरण बचाओ के संदेश भी छपवाए है. गौरतलब है कि पिछले दिनों भाजपा को वोट देने की अपील के भी कार्ड वायरल हुए थे. कांग्रेस पार्टी के कार्यकर्ता का राजीनीति में ये दाव आमजन के गले मे कितना उतर पता है ये तो आने वाले लोकसभा चुनाव में ही स्पष्ट होगा.