close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान: सिरियल रेपिस्ट 'जीवाणु' ने 65 लोगों से दुष्कर्म की बात स्वीकारी

आरोपी सिकंदर उर्फ जीवाणु ने पुलिस पूछताछ में अब तक 60 से 65 लोगों को अपनी हवस का शिकार बनाने की बात स्वीकारी है. जिसमें कम उम्र के बच्चे और बच्चियों के अलावा महिलाएं, पुरुष और किन्नर तक शामिल हैं.

राजस्थान: सिरियल रेपिस्ट 'जीवाणु' ने 65 लोगों से दुष्कर्म की बात स्वीकारी
पुलिस ने आरोपी को कोटा से गिरफ्तार किया था.

जयपुर: जयपुर पुलिस ने एक नाबालिग बच्ची से रेप करने वाले आरोपी सिकंदर उर्फ जीवाणु ने पुलिस पूछताछ में आरोपी ने अब तक 60 से 65 लोगों को अपनी हवस का शिकार बनाने की बात स्वीकारी है. जिसमें कम उम्र के बच्चे और बच्चियों के अलावा महिलाएं, पुरुष और किन्नर तक शामिल हैं.

सीरियल रेपिस्ट जीवाणु अपने आप को मौत का कहर बताया करता था. पुलिस पूछताछ के दौरान जीवाणु ने चेतावनी दी . इस दौरान उसने कहा कि उसकी सूचना देने वालों के लिए वह मौत का कहर बनेगा. उसकी धमकियां सुनकर पुलिस अधिकारी भी हैरान हो गए.

पुलिस की पूछताछ में उसने ख़ुलासा किया कि शास्त्री नगर में नाबालिग के साथ दुष्कर्म के बाद वो उसकी हत्या करना चाहता था. इसके अलावा उसने बताया कि कोटा में दोस्त की हत्या नहीं कर पाना अपनी सबसे बड़ी भूल बताया.

पुलिस सूत्रों के अनुसार, आरोपी जीवाणु 25 से ज्यादा नाबालिग बालकों को अपनी हवस का शिकार बना चुका है. इसके अलावा वो  40 पुरुषों और किन्नरों के साथ अप्राकृतिक यौन शोषण कर चुका है. यौन शोषण के लिए वो कम उम्र के पुरुषों को अपना शिकार बनाता था.

पुलिस ने यह भी बताया कि सिकंदर कई नामों से जाना जाता था. इसके अलावा वो चोरी की घटनाओं में भी संलिप्त था. जिसमें उसका एक अन्य साथी रफीक उसका साथ देता था. दोनों दोस्तों में सिंकदर का नाम जीवाणु तो रफीक का नाम कीटाणु रखा हुआ था. इसके अलावा राजधानी जयपुर के परकोटा क्षेत्र में जीवाणु मादक पदार्थों की तस्करी भी करता था.

बताया जा रहा है कि सीरियल रेपिस्ट जीवाणु ने 1 जुलाई को शास्त्री नगर में 7 साल की बच्ची के साथ दुष्कर्म को अंजाम देने के बाद 2 जुलाई को जयपुर में ही नाई की थड़ी के पास छिपा हुआ था. 

पुलिस सूत्रों के अनुसार, आरोपी मीडिया में सीसीटीवी फुटेज देखने के बाद फरार हुआ. इस दौरान सांगानेर में जाकर मजदूरों के साथ फुटपाथ पर सो गया था. इसके अलावा 4 जुलाई को टोंक भाग गया था. वहीं, 5 जुलाई को देवली के ठेके पर सेल्समैन से उसकी झड़प हुई थी. इस दौरान उसने मैनेजर सोहन लाल को गोली मार दी. जिसके बाद वहां से 20 हजार रुपए लेकर वहां से फरार हो गया. देवली में लूट के वारदात को अंजाम देने के बाद आरोपी जीवाणु कोटा फरार हो गया था.