close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

जोधपुर में होली पर आयोजित श्लील गायकी में होगा एयर स्ट्राइक का जलवा

वैसे तो जोधपुर स्थापना के समय से ही यहां होली पर्व पर श्लील गायकी का आयोजन होता रहता है और जिसमें पैरोड़ी गाई जाती है

जोधपुर में होली पर आयोजित श्लील गायकी में होगा एयर स्ट्राइक का जलवा
यहां सैकड़ों की संख्या में लोग पैरोड़ी को सुनने और देखने आते हैं

अरुण हर्ष/जोधपुर: लोकसभा चुनाव की हर रैली में छाए रहने वाले एयर स्ट्राइक का मुद्दा इस बार जोधपुर के श्लील गायकी कार्यक्रम में भी प्रमुखता से नजर आएगा. पुलवामा में हुए आतंकी हमले के बाद एयरफोर्स के बहादुर जवानों ने जिस शौर्यता के साथ पाकिस्तान में घुसकर आतंकी कैंपों को तबाह किया है उसकी धमक होली की गैर में भी दिखेगी. विभिन्न समसामयिक विषयों को लेकर जोधपुर शहर में प्रतिवर्ष होली पर सलील गेर गायकी का आयोजन होता है. इस बार एयर योद्धाओं की शौर्य और पराक्रम की गाथा इस गैर गायकी में शामिल होगी. साथ ही पाकिस्तान की आतंकी गतिविधियों को भी गायकी के माध्यम से बताया जाएगा.

वैसे तो जोधपुर स्थापना के समय से ही होली पर्व पर श्लील गायकी का आयोजन होता रहता है और उसमें द्विअर्थी पैरोड़ी गाई जाती है. महाराजा मानसिंह के जमाने से चली आ रही परंपरा को जोधपुर के युवा आने वाली पीढ़ियों को इस परंपरा से रूबरू करा रहे हैं. इस बार भी जोधपुर में होली पर्व पर आयोजित होने वाली गैर के लिए युवाओं की टोलियां पिछले 15 से 20 दिनों से अभ्यास कर रही है. इस बार एयर स्ट्राइक के साथ-साथ लोकसभा में राहुल गांधी द्वारा आंख मारने वाली घटना को लेकर भी पैरोड़ी गायी जा रही है. 

जोधपुर में हर साल की तरह आयोजित होने वाले इस पर्व में जहां सैकड़ों की संख्या में लोग पैरोड़ी को सुनने और देखने आते हैं. वहीं होली के बाद देश भर में बसे मारवाड़ी भी इन गैर गायकों को अपने यहां बुला कर जोधपुर की संस्कृति का लुत्फ उठाते हैं. मारवाड़ की इस संस्कृति को अलग अलग राज्य में भी लोग देखते हैं और पसंद करते हैं. हालांकि इस साल होली के बाद लोकतंत्र का पर्व यानी कि लोकसभा चुनाव होने जा रहे है. इस मौके पर गेरिये लोगों से मतदान करने के लिए अपील भी कर रहे हैं.

हर साल आने वाले इस होली पर्व को लेकर जोधपुर के लोगों में काफी उत्साह देखा जाता है. वहीं देशभर में लोग होली अपनी अपनी तरह से मनाते हैं लेकिन जोधपुर की अनूठी गैर गायन परंपरा कई संदेश छोड़ जाती है.