close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान: किसान कर्जमाफी पर BJP ने उठाए सवाल, कहा- जनता से छलावे के लिए मांफी मांगे राहुल

कर्ज माफी के दावे को फेल बताते हुए अरुण चतुर्वेदी ने कहा, राहुल गांधी को प्रदेश के किसानों से माफी मांगनी चाहिए. 

राजस्थान: किसान कर्जमाफी पर BJP ने उठाए सवाल, कहा- जनता से छलावे के लिए मांफी मांगे राहुल
डॉ. अरुण चतुर्वेदी ने कहा, कांग्रेस ने जिस मकसद से रैली बुलाई वह उद्देश्य ही पूरा नहीं हो सका.

जयपुर/ शशि मोहन: राहुल गांधी ने राजस्थान की धरती पर 'किसान आग्रह रैली' को संबोधित करने के साथ ही लोकसभा चुनाव के लिए पार्टी की तैयारियों का शंखनाद कर दिया है. हालांकि इस रैली में दिए राहुल गांधी के भाषण को अब तक के बेहतरीन भाषणों में माना जा रहा है, लेकिन बीजेपी इस रैली और उसके पूरे मकसद पर ही सवाल उठा रही है. बीजेपी ने किसानों से छलावा करने के आरोप लगाते हुए कहा कि राहुल गांधी को किसानों से छल के लिए माफी मांगनी चाहिए.

विधानसभा चुनाव में हिंदी बेल्ट के तीन राज्यों में जीत के बाद कांग्रेस उत्साह से लबरेज है. इसी उत्साह में राहुल गांधी किसानों का आभार जता रहे हैं और बीजेपी पर निशाना साध रहे हैं. प्रधानमंत्री पर आरोप लगाते हुए कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि राफेल के मुद्दे पर लोकसभा में बोलने की हिम्मत ही प्रधानमंत्री नहीं जुटा पाए. लेकिन दूसरी तरफ बीजेपी राहुल गांधी के तमाम आरोपों को खारिज करते हुए उनकी किसान आभार रैली के मकसद को ही अधूरा बता रही है. 

बीजेपी के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष और वसुंधरा सरकार में मंत्री रहे डॉ. अरुण चतुर्वेदी ने कहा, कांग्रेस ने जिस मकसद से रैली बुलाई वह उद्देश्य ही पूरा नहीं हो सका. अरुण चतुर्वेदी ने कहा की सरकार में आने के पहले कांग्रेस ने यह वादा किया था कि अगर वह सरकार में आई तो 10 दिन में किसानों का कर्ज माफ कर देगी. चतुर्वेदी का कहना है कि सरकार बने 17 दिन से ज्यादा हो गए लेकिन अभी तक कर्ज माफी हुई ही नहीं. बीजेपी के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष ने कहा, अभी तक कर्ज माफी के लिए कांग्रेस सरकार ने केवल एक समिति बनाई है और वह समिति भी यह तय नहीं कर पाई कि कर्ज माफी के लिए जरूरी रकम की व्यवस्था कहां से होगी? 

बीजेपी का आरोप है कि सरकार और उसकी समिति यह भी तय नहीं कर पाई कि कर्ज माफी का पैटर्न कैसा होगा? कर्ज माफी के दावे को फेल बताते हुए अरुण चतुर्वेदी ने कहा, राहुल गांधी को प्रदेश के किसानों से माफी मांगनी चाहिए. इसके साथ ही केंद्र से पर्याप्त यूरिया मिलने के बावजूद किसानों को समय पर यूरिया मुहैया नहीं कराने के लिए भी कांग्रेस प्रदेश की जनता से माफी मांगे.

राफेल के मुद्दे पर राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री और बीजेपी को घेरने की कोशिश की तो बाद में पलटवार करते हुए राजस्थान बीजेपी ने राफेल मुद्दे पर ही कांग्रेस के बर्ताव को लेकर सवाल उठाए. चतुर्वेदी ने कहा कि राहुल गांधी राफेल मामले में न तो सुप्रीम कोर्ट को मानते हैं और न ही तथ्यों को. चतुर्वेदी ने कांग्रेस अध्यक्ष पर आरोप लगाते हुए कहा कि राहुल गांधी तो 'चोर मचाए शोर' की कहावत को चरितार्थ कर रहे हैं. बीजेपी के पूर्व अध्यक्ष ने कहा कि अपने भाषण में रक्षा मंत्री के नाम का जिस तरह राहुल गांधी ने जिक्र किया उसके लिए भी कांग्रेस अध्यक्ष को माफी मांगनी चाहिए.

राहुल गांधी के साथ ही बीजेपी के निशाने पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत भी रहे. अरुण चतुर्वेदी ने कहा की पिछली बीजेपी सरकार जो काम शुरू कर चुकी थी अशोक गहलोत भी उन्हीं कामों को दोहरा रहे हैं. इसके साथ ही चतुर्वेदी ने गहलोत पर निशाना साधते हुए कहा कि अपने पिछले कार्यकाल में भी अशोक गहलोत ने 5 साल तक बिजली की दरें नहीं बढ़ाने का वादा किया था फिर भी पूरे कार्यकाल के दौरान कांग्रेस सरकार में पांच बार बिजली की दरें बढ़ाई गईं. अरुण चतुर्वेदी ने कहा कि मुख्यमंत्री के बयानों से ऐसा लगता है कि वह अब किसानों की कर्ज माफी का मामला भी केंद्र सरकार पर ही डालने की मंशा रखते हैं.

कांग्रेस की रैली पर सवाल उठाते हुए अरुण चतुर्वेदी ने कहा कि अगर राहुल गांधी अपने बयानों में इतनी ईमानदारी रखते हैं तो उन्हें आर्थिक पिछड़ों को 10 फीसदी आरक्षण के मसले पर भी बोलना चाहिए था. चतुर्वेदी ने कांग्रेस पर निशाना साधने के साथ ही पूर्ववर्ती बीजेपी सरकार के कामों का हवाला भी दिया. उन्होंने कहा कि पिछली सरकार ने किसानों की बिजली के बिल भी माफ किए थे तो कर्जमाफी करके भी राहत दी. अरुण चतुर्वेदी ने कहा कि केंद्र की बीजेपी सरकार ने भी किसानों के लिए सॉइल हेल्थ और समर्थन मूल्य बढ़ाने जैसे कई अच्छे काम किए.