close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

चलती ट्रेन में 1.70 करोड़ रुपये की लूट के मामले में तीन आरोपी गिरफ्तार

दो गिरफ्तार आरोपियों की पहचान गणपत सिंह और उत्तम राणा के रूप में की गई है. 

चलती ट्रेन में 1.70 करोड़ रुपये की लूट के मामले में तीन आरोपी गिरफ्तार
(प्रतीकात्मक फोटो)

कोटा: रेलवे पुलिस (जीआरपी) ने कोटा में चलती ट्रेन में 1.70 करोड़ रूपये की लूट के मामले में तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया है. दो गिरफ्तार आरोपियों की पहचान गणपत सिंह और उत्तम राणा के रूप में की गई है.

दोनों आरोपी अपराध को अंजाम देने वाले गिरोह के सदस्य हैं जबकि तीसरा सदस्य एक अन्य गिरोह के सदस्य का पिता है. इस आरोपी के घर में डकैती की रकम छुपा कर रखी गई थी और वह पुलिस को उसके घर की तलाश से रोक रहा था.

कोटा जीआरपी के वृत्ताधिकारी हुंमायू कबीर खान ने गुरुवार को बताया कि गत 14 अप्रैल को कोटा रेलवे स्टेशन के पास एक चलती ट्रेन से तारसिंह और उत्तम कुमार ने ट्रेन में सफर कर रहे एक व्यवसायी गौतम कुमार से एक बैग लूट लिया था. तार सिंह चलती ट्रेन के कूद कर भागने में सफल हो गया लेकिन पीड़ित व्यवसायी ने अन्य यात्रियों की मदद से उत्तम राणा को पकड कर जीआरपी पुलिस को सौंप दिया था. व्यवसायी गौतम कुमार एक करोड़ सत्तर लाख नगदी के बैग के साथ दिल्ली से मुंबई जा रहा था.

उन्होंने बताया कि व्यवसायी गौतम कुमार के दिल्ली निवासी एक परिचित जबरसिंह ने वारदात को अंजाम देने के लिए तारसिंह, उत्तम राणा,गणपत सिंह और नरपतसिंह से संपर्क कर वारदात की योजना बनाई थी. जबरसिंह को व्यवसायी द्वारा नगदी के साथ यात्रा करने के बारे में पता था. योजना के अनुसार गणपत सिंह व नरपतसिंह को कोटा रेलवे स्टेशन पर उतरकर वारदात के बाद अपने साथियों को भगाने व सुरक्षित स्थान पर पहुंचाने की जिम्मेदारी दी गई जबकि उत्तम राणा व तारसिंह को नगदी से भरा बैग छीनकर ट्रेन से कूदने की जिम्मेदारी दी गई थी.

उन्होंने बताया कि योजना के अनुसार आरोपी तारसिंह व्यवसायी से बैग छीनकर चलती ट्रेन से कूद गया और बाड़मेर पहुंच कर नगदी को अपने घर में छुपाकर फरार हो गया. उन्होंने बताया कि मामले की गहनता से जांच के बाद पुलिस का एक दल बाड़मेर पहुंचा और आरोपी के घर से 1.69 करोड रूपये की नगदी बरामद कर ली गई.

वारदात में शामिल एक आरोपी गणपत सिंह को भी वहां से गिरफ्तार किया गया. आरोपी तारसिंह के पिता मोहन सिंह ने पुलिस के दल को घर की तलाशी नहीं लेने दी उसे सबूतों को छिपाने के लिए गिरफ्तार किया गया. उन्होंने बताया कि मामलें में शामिल अन्य आरोपियों की तलाश की जा रही है.