close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

टोंक: संसाधनों के अभाव में बदहाल हुआ स्टेडियम, खिलाड़ी मायूस

यह वही स्टेडियम में जहां कभी भारतीय टीम का तेज गेंदबाज खलील अहमद अपनी धारदार गेंजबाजी से हर किसी को अचंभित करते थे. 

टोंक: संसाधनों के अभाव में बदहाल हुआ स्टेडियम, खिलाड़ी मायूस
यहां के दो दर्जन से ज्यादा युवा ऐसे है जिनका अंडर क्रिकेट से लेकर रणजी टीम तक चयन हुआ है.

पुरूषोत्तम जोशी/टोंक: राजस्थान के टोंक शहर का एक मात्र स्टेडियम इन दिनों बदहाली के आंसू रो रहा है. संसाधनों के अभाव में स्टेडियम की हालत खस्ता है. शहर के युवा खिलाड़ी मायूस हैं. जिला क्रिकेट एसोसिएशन से जुड़े पदाधिकारियों और सदस्यों ने स्टेडियम को अपने स्तर पर विकसित करने की काफी कोशिश की, लेकिन स्टेडियम में पीजी कॉलेज प्रबंधन का अधिकार होने के चलते कोशिशें सफल नहीं हो पा रही है.

बता दें कि यह टोंक शहर का इकलौता स्टेडियम है. यह वही स्टेडियम में जहां कभी भारतीय टीम का तेज गेंदबाज खलील अहमद अपनी धारदार गेंजबाजी से हर किसी को अचंभित करते थे. ऐसा नहीं है कि खलील क्रिकेट का एक मात्र हीरो थे, जो आज भारतीय टीम में अपना जलवा दिखा रहा है. इससे पहले भी दो दर्जन से ज्यादा युवा ऐसे है जिनका अंडर क्रिकेट से लेकर रणजी टीम तक चयन हुआ है.

आज भी सैकड़ों युवा खलील बनने का चाह में हर दिन स्टेडिम में पसीना बहा रहे है, लेकिन स्टेडियम की बदहाली और संसाधनों के अभाव से शहर के युवा मायूस है. हालांकि जिला क्रिकेट एसोसिएशन से जुड़े पदाधिकारियों और सदस्यों ने स्टेडियम को अपने स्तर पर विकसित करने की कोशिश की, लेकिन स्टेडियम में पीजी कॉलेज प्रबंधन का अधिकार होने के चलते कोशिशें कारगर नहीं पाई.

हाल ही में टोंक के इस स्टेडियम पर इम्तियाज खान की ओर से संचालित की जा रही अकेडमी से रोहित चौधरी का सलेक्शन राजस्थान कोल्ट्स के लिए हुआ है. इनका भी सपना  देश के लिए खेलने का है. यह टोंक जिले का नाम रौशन करना चाहते हैं, लेकिन शायद ही अब कोई ओर खलील बन पाए.

सरकार खेलों के लिए बड़ी योजनाएं चला रही है, लेकिन टोंक जैसे कई दूसरे ऐसे जिले है जिनकों वाकई इन योजनाओं के धरातल पर उतरने का इंतजार है. कई ऐसे युवा है, जिनका हुनर तराशा जा सकता है. फिर चाहे क्रिकेट हो या कोई ओर दूसरा खेल. ऐसा नहीं है कबड्डी, वॉलीबॉल और दूसरे खेलों से लोगों को प्रेम नहीं है. मगर जरूरत है तो सिर्फ सुविधाओं और संसाधनों के विकास के साथ सरकारी मदद की. उम्मीद है कि जल्द टोंक में सूबे के उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट इसके विकास के लिए मजबूत योजना शुरू करेंगे.