झुंझुनू: SDM कोर्ट के सामने हड़ताल पर बैठे कर्मचारियों के समर्थन में उतरी महिलाएं

राजस्थान के खेतड़ी एसडीएम कार्यालय के सामने अपनी मांगों लेकर पिछले 9 दिन से भूख हड़ताल पर बैठे एसएमएस कंपनी के ठेका कर्मचारियों के समर्थन में सोमवार को महिलाओं ने एसडीएम कार्यालय का घेराव किया.

झुंझुनू: SDM कोर्ट के सामने हड़ताल पर बैठे कर्मचारियों के समर्थन में उतरी महिलाएं
झुंझुनू न्यायालय

संदीप केडिया/झुंझुनू: राजस्थान के खेतड़ी एसडीएम कार्यालय के सामने अपनी मांगों लेकर पिछले 9 दिन से भूख हड़ताल पर बैठे एसएमएस कंपनी के ठेका कर्मचारियों के समर्थन में सोमवार को महिलाओं ने एसडीएम कार्यालय का घेराव किया. सुबह करीब दस बजे ग्रामीण महिलाएं एसडीएम कार्यालय के सामने धरनास्थल पर एकत्रिज होने लगी तथा करीब 12 बजे एसडीएम कार्यालय के गेट पर जूलूस के रूप में पहुंचकर विरोध प्रदर्शन किया. इसके बाद महिलाएं कार्यालय के आगे धरने पर बैठ गई तथा कंपनी से पूर्व में हुए समझौते को लागु करवाने की मांग की.

विरोध कर रही महिलाओं ने एक बार तो एसडीएम कार्यालय में घुसने का प्रयास किया तो मौके पर मौजूद एएसपी मोहम्मद अयूब व सीआई शीशराम मीणा ने कार्यालय का मुख्य गेट बंद कर दिया तथा महिलाओं से समझाइश कर शांति व्यवस्था बनाने की अपील की. एसडीएम कार्यालय के सामने ठेका कर्मीयों व महिलाओं के घेराव को देखते हुए पुलिस व प्रशासन सर्तक हो गया तथा आस-पास के थानों से अतिरिक्त जाब्ता मंगवाया गया.

वहीं, एसडीएम शिवपाल जाट ने बताया कि एसएमएस कम्पनी व ठेकाकर्मीयों का पहले से जो विवाद चल रहा है उसका पूर्व में एक समझौता हुआ था. जिसको लेकर कर्मचारी व कंपनी के अधिकारियों के साथ दो बार बैठक भी हो चुकी है, लेकिन समाधान नहीं निकल पाया. जिसको लेकर जिला कलेक्टर ने श्रम आयुक्त अजमेर को पत्र लिखकर तीन दिन में समाधान करने की बात कही है.

एसडीएम ने बताया कि भूख हड़ताल पर बैठने वाले ठेका कर्मचारियों का नियमित रूप से हैल्थ चैकअप करवाया जा रहा है. कम्पनी व कर्मचारियों के बीच चल रहे विवाद को मुख्य रूप से श्रम आयुक्त ही समाधान करने का अधिकार रखता है. इनका जो भी श्रम आयुक्त समझौता करता है उसे लागु करवाया जाएगा. मजदूर यूनियन के अध्यक्ष ने बताया कि यदि जल्द ही प्रशासन द्वारा कोई समाधान नही किया तो मजूदरों व ग्रामीणों की ओर से बड़ा आंदोलन किया जाएगा. एसडीएम कार्यालय के घेराव को देखते हुए खेतड़ीनगर थानाधिकारी किरण् सिंह, बुहाना सीआई देवेंद्र प्रताप, सिंघाना थानाधिकारी प्रमोद चौधरी, पचेरीकलां थानाधिकारी गोपाल सिंह थालौर मय जाब्ते व आरएसी के जवान तैनात किए गए.

डेढ़ घंटे तक SDM कार्यालय के आगे बैठी रही महिलाएं
ठेकाकर्मीयों के समर्थन में आई महिलाओं नारेबाजी करती हुई एसडीएम कार्यालय के गेट के आगे बैठ गई. इस दौरान एसडीएम शिवपाल जाट, एएसपी मोहम्मद अयूब व सीआई शीशराम मीणा ने कई बार समझाइस की, लेकिन महिलाए उठने का तैयार नहीं हुई. जिससे चलते करीब डेढ़ घंटे तक एसडीएम कार्यालय का काम बाधित रहा तथा एसडीएम को तीन बार समझाइस के लिए बाहर आना पड़ा. डेढ़ घंटे बाद कलेक्टर द्वारा श्रम आयुक्त को पत्र भेजने की बात पर समहत होकर महिलाओं ने एसडीएम कार्यालय के गेट से धरना उठाया.

एसडीएम शिवपाल जाट ने बताया कि कंपनी व मजूदर यूनियन के बीच चल रहे विवाद का निपटारा करने में श्रम आयुक्त की अहम भूमिका होगी. उन्होनें बताया कि लोकतांत्रित तरीके से धरना देना वाजिब है, लेकिन उनके पास इस समस्या का कोई हल नहीं. है. कानूनी रूप से श्रम आयुक्त ही इसमें समझौता करवा सकता है, जिसको जिला कलेक्टर द्वारा पत्र भेज दिया गया है. महिलाओं व मजदूर यूनियन की तरफ से कार्यालय के गेट के आगे डेढ घंटे जो विरोध प्रदर्शन किया गया है इससे कार्य बाधित हुआ है इसलिए इनके खिलाफ नियमानुसार कार्यवाही की जाएगी.